सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

November, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

फिल्म समीक्षा : ठग्स ऑफ हिन्दोस्तां

एक कहावत है ‘नाम बड़े दर्शन छोटे’ या यूं कहिए ‘ऊंची दुकान फीका पकवान’। आमिर खान, अमिताभ बच्चन सरीखे बड़े नाम के साथ यशराज फिल्म्स सरीखा बैनर कमज़ोर कहानी और बेजान स्क्रीनप्ले की बलि चढ़ गया। बाकी क्या कुछ देखने लायक है और क्या कमज़ोरियां हैं, जानते हैं इस समीक्षा में।