सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

क्या आमिर खान ‘महाभारत’ की तैयारियों में जुट चुके हैं?

बीते कुछ समय से ख़बरों का बाज़ार गर्म है कि आमिर खान का अगला प्रोजेक्ट ‘महाभारत’ होगा। हालांकि, आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। लेकिन आमिर के हाथों में महाभारत को देख कर इन ख़बरों ने फिर से जो पकड़ा है।
मुंबई। इन दिनों आमिर खान अपनी आगामी फिल्म ‘ठग्स ऑफ हिन्दोस्तां’ को फाइनल टच देने की तैयारियों में है। वहीं उनके अगले प्रोजेक्ट्स को लेकर चर्चा का बाज़ार गर्म है। 
कुछ दिनों पहले ख़बर आई थी कि वो धर्मगुरू ‘ओशो’ की बायोपिक करेंगे और इस बायोपिक से पहले ‘महाभारत’ पर बेस्ड पीरियड ड्रामा की ख़बरें आईं। 
फिलहाल इन दोनों ही फिल्मों को लेकर आमिर खान की तरफ से कोई पुष्टि नहीं मिली है, लेकिन हाल ही में उनके हाथों में ‘महाभारत’ को देखा गया है। एयरपोर्ट पर ‘महाभारत’ के साथ स्पॉट किए गए आमिर के हाथ में इस महाकाव्य को देखने के बाद गॉसिपगली में ख़बरें फिर तेज हो चली हैं। 
ग़ौरतलब है कि कुछ समय पहले ख़बरें आई थीं कि आमिर खान की ‘महाभारत’ महाकाव्य पर आधारित फिल्म में मुकेश अंबानी पैसा लगाने वाले हैं। उन्होंने तकरीबन 1000 करोड़ का फाइनेंस इस फिल्म को दिया है। 
हालांकि, अंबानी की तरफ से भी इस प्रोजेक्ट …
हाल की पोस्ट

TRP: कुल्फी कुमार बाजेवाला ने लगाई छलांग

अपने-अपने पसंदीदा धाराावाहिकों की रेंकिंग देखने को आप बेताब बैठे होंगे। हम हाज़िर हैं छोटे पर्दे की रिपोर्ट कार्ड के साथ। जहां 'नागिन 3' का 'फन' फैला हुआ है, वहीं 'कुंडली भाग्य' और 'कुमकुम भाग्य' भी अपनी कुर्सी से चिपके हुए हैं, लेकिन इस सप्ताह 'कुल्फी कुमार बाजेवाला' ने जहां बढ़त बनाई है। वहीं 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' को एक पायदान नीचे खिसकना पड़ा है। 
मुंबई। एक बार फिर छोटे पर्दे पर 'नागिन' का 'फन' फैल गया है। 'नागिन 3' इस सप्ताह भी दर्शकों की पहली पसंद बन कर उभरा है। वहीं बीते सप्ताह टॉप-20 में शामिल होने वाला सलमान खान का रियलिटी गेम शो 'दम का दम 3' इस बार बेदम रहा। सलमान का शो टॉप-20 से बाहर हो गया है। 'नागिन 3' के शुरू होने के बाद कुछ धारावाहिकों को मुंह की खानी पड़ रही है, तो वहीं कुछ टॉप में बने रहने के लिए काफी कोशिशें कर रहे हैं। आइए देखते हैं, इस सप्ताह की रिपोर्ट कार्ड...
इस सप्ताह दर्शकों की पहली पसंद बन कर 'नागिन 3' छाई रही। दरअसल, इस सप्ताह शो में कई दिलचस्प ट्विस्ट देखने …

फिल्म समीक्षा : संजू

रणबीर कपूर स्टारर संजय दत्त की बायोपिक 'संजू' इस हफ्ते सिनेमाघरों में उतर चुकी है। राजकुमार हिरानी के निर्देशन में बनी इस फिल्म को लेकर लंबे समय से चर्चा थी। संजय दत्त की विवादास्पद ज़िंदगी के पन्नों को हिरानी ने पलटने के भरसक कोशिश की है। इस कोशिश को 'संजू' नाम दिया है। हालांकि, सिलेक्टिव वाकयों को जोड़कर फिल्म बनाई है। उनकी कोशिश कितनी सफल है, आइए करें समीक्षा। 
फिल्म : संजू निर्माता : विधु विनोद चोपड़ा निर्देशक : राजकुमार हिरानी कलाकार : रणबीर कपूर, मनीषा कोइराला, दीया मिर्ज़ा, परेश रावल, अनुष्का शर्मा, सोनम कपूर, संगीत : ए आर रहमान जॉनर : बायोपिक रेटिंग : 3/5
'नायक नहीं, खलनायक हूं मैं' फिल्म 'खलनायक' का यह गाना संजय दत्त की ज़िंदगी पर सटीक बैठता है। होने को तो वो सितार माता-पिता के पुत्र रहे हैं, फिल्मों में नायक रहे हैं, लेकिन निजी ज़िंदगी में हमेशा वो अपनी 'खलनायकी' छवि के लिए सुर्खियां बटोरते रहे हैं। संजय दत्त की ज़िंदगी में वो सारे मोड़ मौजूद हैं, जो एक मसाला फिल्म की मंजिल तक जाते हैं। इसलिए तो राजकुमार हिरानी ने तुरंत-फुरत में संजय दत्त को…

'संजू' के इस सीन पर चलाई सेंसर बोर्ड ने कैंची

रणबीर कपूर स्टारर फिल्म 'संजू' कल सिनेमाघरों में उतरने वाली है। राजकुमार हिरानी के निर्देशन में बनी संजय दत्त की बायोपिक से रिलीज़ के एक दिन पहले ही एक सीन पर सेंसर बोर्ड ने कैंची चला दी है। कुछ दिन पहले इस सीन को लेकर एक सामाजिक कार्यकतर्ता ने शिक़ायत दर्ज कराई थी। 

मुंबई। अब संजय दत्त की ज़िंदगी विवादित थी, तो फिर उन पर बनी फिल्म भला कैसे विवादों से बच सकती है। एक तरफ उनकी फिल्म के एक डायलॉग को लेकर महिला संगठन ने आपत्ति दर्ज कराई है, तो वहीं कुछ दिनों पहले एक सामाजिक कार्यकर्ता ने फिल्म के एक सीन को लेकर शिक़ायती पत्र सेंसर बोर्ड और फिल्ममेकर्स को लिखा था। 
फिलहाल डायलॉग को लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है, लेकिन फिल्म के जिस पर शिक़ायती पत्र भेजा गया था, उस सीन को फिल्म से काट दिया गया है। बता दें फिल्म के ट्रेलर में जेल की बैरक में बंद रणबीर कपूर टॉयलेट ओवरफ्लो होने की वजह से घबरा जाते हैं और वो एक कोने में दुबक कर खड़े हो जाते हैं। 
इसी सीन को लेकर आरटीआई एक्टिविस्ट पृथ्वी मस्के ने सेंसर बोर्ड के साथ फिल्ममेकर्स को पत्र लिखा था। उनका आरोप था कि फिल्म में जेल को ग़लत त…

पंचम दा के वो गाने जो रिकॉर्ड हुए, लेकिन रिलीज़ नहीं

एक ऐसा संगीतकार, जिसे जीनियस कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी। उसने बेहतरीन संगीत रचा और फिल्म इंडस्ट्री को बेहतरीन संगीत का सौगात दे कर, वो विदा हो गया। गजब को प्रयोगधर्मिता उसके भीतर समाई थी। रोने से लेकर हांफने तक, बारिश की बूंदों से लेकर मोटर का आवाज़ तक में वो संगीत खोज निकालता था। उस शख्स को हम 'पंचम दा' के नाम से जानते हैं। पंचम दा यानी आर डी बर्मन की आज सालगिरह है। आइए इस ख़ास मौक़े पर हम उन नग़मों की चर्चा करते हैं, जिन्हें पंचम ने रिकॉर्ड तो किया, लेकिन वो रिलीज़ नहीं हो पाए। 
मुंबई। आज एक ऐसे संगीतकार का जन्मदिन है, जिसकी रगो में खून की जगह संगीत बहता था। वो बारिश की बूंदों, मोटर के हॉर्न, हिचकियों से लेकर हॉफने तक, कदमों की आहट से लेकर पीठ की थपथपाहट तक से संगीत बना लिया करता था। जी बिलकुल हम बात कर रहे हैं, हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री के 'पंचम दा' के बारे में। नाम तो था राहुल देव बर्मन, लेकिन पंचम स्वर में रोने की वजह से नाम पड़ गया 'पंचम'। 
ख़ैर, जिस शख्स के नाम में ही सुर समाया है, वो भला संगीत में किस कदर समाया होगा। पंचम दा ने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को ब…

'रेस 3' विश्व की सौ सबसे ख़राब फिल्मों में से एक

सलमान खान की हालिया रिलीज़ फिल्म 'रेस 3' ने शुरुआती दिनों में कमाई की, लेकिन इस मल्टीस्टारर फिल्म की कमाई महज 175 करोड़ पर आकर रूक गई। अब इस फिल्म के लिए एक और बुरी ख़बर है। दरअसल, फिल्मों से जुड़े रिकॉर्ड तैयार करने वाली वेबसाइट आईएमडीबी ने 'रेस 3' को दुनिया की सौ सबसे ख़राब फिल्मों में शामिल किया है। 
मुंबई। सलमान खान की हालिया रिलीज़ फिल्म 'रेस 3' के लिए एक और बुरी ख़बर है। दरअसल, फिल्मों से जुड़े रिकॉर्ड तैयार करने वाली बेवसाइट आईएमडीबी ने दुनिया की सबसे ख़राब फिल्मों की लिस्ट जारी की है, जिसमें सलमान खान की फिल्म 'रेस 3' को 79वें नंबर पर रखा है। 
यूं तो फिल्म की ओपनिंग हुई और फिर जल्दी ही यह सौ करोड़ी क्लब में शामिल भी हो गई, लेकिन मल्टीस्टारर फिल्म 175 के आंकड़े को छुते ही रूक गई। एक तरफ तो इसे क्रिटिक्स ने नकारा, तो दूसरी तरफ दर्शकों ने भी फिल्म को काफी फटकार लगाई। सोशल मीडिया पर फिल्म को लेकर जोक्स की बाढ़ आ गई। वहीं 'वर्स्ट बॉलीवुड एक्टर ' को गूगल पर सर्च करने में सलमान खान का नाम आ रहा था। इस पर भी फिल्म और एक्टर्स जम कर ट्रोल किए गए।…

मुकम्मल कलाकार रघुबीर यादव ने तराशी अपनी राहें

रघुबीर यादव उन अभिनेताओं में से हैं, जिन्हें स्क्रीन टाइम नहीं, बल्कि दमदार किरदार से मतलब रहा है। परीक्षा में फेल होने डर से घर से भागने वाले रघुबीर का नाम ऐसे अभिनेता के रूप में दर्ज़ हो गया है, जिनकी आठ फिल्में ऑस्कर की रेस में पहुंची हैं। बनना चाहते थे गायक, लेकिन क़िस्मत में अभिनेता बनना लिखा था, लिहाजा हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री को रघुबीर यादव मिल गए। आज रघुबीर यादव का जन्मदिन है। आइए पलटे उनके जीवन के पन्नों को।

मुंबई। 'चिलम', 'एडोल्फ हिटलर' 'मुगेरीलाल', 'चाचा चौधरी', 'भूरा' और 'बुधिया'...न जाने ऐसे कितने किरदारों को साकार करने वाले रघुबीर यादव आज अपना 61वां जन्मदिन मना रहे हैं।
विलक्षण अभिनेता रघुबीर यादव का जन्म 25 जून 1957 को मध्य प्रदेश के जबलपुर में हुआ। अभिनय के क्षेत्र में झंडा बुलंद करने वाले रघुबीर अक्सर कहते हैं कि अभिनय तो मेरे गले पड़ गई है। मैं तो गायक बनना चाहता था। भले ही रघुबीर अभिनय के रास्ते पर चल रहे हों, लेकिन उन्होंने संगीत का साथ नहीं छोड़ा।

कई तरह के वाद्ययंत्रों को बजाने में माहिर रघुबीर को संगीत में शांति मिल…