सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

January, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

‘मणिकार्णिका’ में कंगना रनौत की एक्टिंग और डायरेक्शन तो उम्दा है, लेकिन एडिंटिंग में रह गई थोड़ी ‘कसर’

जब भी पीरियड ड्रामा फिल्मों की बात आती है, तो ज़ेहन में के आसिफ, संजय लीला भंसाली और आशुतोष गोवारिकर के बाद अब एसएस राजामौली का नाम आता है। इसी जॉनर में एक नई फिल्म आई है, जो झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की अमर गाथा को सिल्वर स्क्रीन पर पेश कर रही है। नाम है ‘मणिकार्णिका : द क्वीन ऑफ झांसी’। फिल्म को पहले कृष और बाद में कंगना रनौत ने निर्देशित किया है। कई मायनों में यह फिल्म खास है, लेकिन दर्शकों के लिए कैसा अनुभव होने वाला है, आइए करते हैं समीक्षा। 

फिल्म ‘ठाकरे’ में नवाज़ुद्दीन के एक्सप्रेशन तो ठीक है, लेकिन जब वो डायलॉग बोलते हैं तो...

महाराष्ट्र से लेकर भारत राजनीति में भूचाल लाने वाले बाला साहेब ठाकरे की बायोपिक इस सप्ताह रिलीज़ हुई है। इसमें साल 1960 से लेकर बाबरी मस्जिद ढहाने के कुछ सालों बाद के घटनाक्रम को दिखाया गया है। फिल्म में नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी ने बाला साहेब ठाकरे की भूमिका निभाई है। क्या कुछ खास है फिल्म में आइए जानते हैं।