सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

October, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

फिल्म समीक्षा : अंधाधुन

कुछ फिल्में ऐसी होती हैं, जिनके अगले सीन को देखने की हिम्मत नहीं होती और उसे देखे बिना चैन भी नहीं पड़ता। ऐसी ही फिल्म इस सप्ताह भी रिलीज़ हुई है। उस फिल्म का नाम है ‘अंधाधुन’। आयुष्मान खुराना, राधिका आप्टे, तब्बू सरीखे कलाकारों से सजी इस फिल्म को श्रीराम राघवन ने बनाया है। फिर आइए करते हैं समीक्षा। 

फिल्म समीक्षा : लवयात्री

सलमान खान ने अपने होम प्रोडक्शन के तले फिल्म बनाई है, जिसका नाम है ‘लवयात्री’। इस फिल्म से उनके जीजा जी यानी अर्पिता खान के पति आयुष शर्मा का सिने करियर शुरू हो गया। साफ-साफ कहें, तो आयुष शर्मा की डेब्यू मूवी है। फिर आइए जानते हैं, कैसी बनी है फिल्म। 

फिल्म समीक्षा : पटाखा

एक बार फिर विशाल भारद्वाज अपने चिर-परिचित अंदाज़ यानी कि ठेठ देसीपन के साथ हाजिर हैं। इस बार वो 'पटाखा' लेकर आए हैं। चरण सिंह पथिक के उपन्यास ‘दो बहनें’ पर बनी इस फिल्म में सान्या मल्होत्रा, राधिका मदन, सुनील ग्रोवर और विजय राज सरीखे कलाकार हैं। अब यह फिल्म कैसी बनी है, आइए करते हैं इसकी समीक्षा।
निर्माता : विशाल,रेखा भारद्वाज,ईशान सक्सेना,अजय कपूर 
निर्देशक : विशाल भारद्वाज
कलाकार : सान्या मल्होत्रा, राधिका मदान, सुनील ग्रोवर, विजय राज,नमित दास
संगीतकार : विशाल भारद्वाज 
जॉनर :कॉमेडी -ड्रामा
रेटिंग :4/ 5 

कहानी  ‘बड़की’ चंपा कुमारी और ‘छुटकी’ गेंदा कुमारी दो बहनें हैं और दोनों को एक-दूजे से इतनी नफरत रहती है कि हमेशा गुत्थम-गुत्थी ही करती रहती थीं। 
इन दो बहनों का शगल लड़ना है, वैसे ही एक ऐसा बंदा है, जिसको इनकी लड़ाई इतनी भाती है कि डिब्बा-कनस्तर पीट-पीट कर खुश होता है। उसका नाम है ‘डिप्पर’। 
एक-दूसरे की जान की प्यासी इन बहनों की आंखों में सपने भी पलते हैं। एक को अपना डेयरी खोलना है, जो दूजी को टीचर बनना है। 
इनके सपने में पलीता ‘बापू’ की मजबूरी से लगता है। दरअसल, ‘बापू’ को अचानक …

फिल्म समीक्षा: सुई धागा

‘सुई-धागा’ फिल्म कहानी है मौजी (वरुण धवन) और उसकी पत्नी ममता (अनुष्का शर्मा) की। मौजी अपना परिवार चलाने के लिए एक शोरूम में काम करता है।‘दम लगा के हईशा’ बना चुके शरत कटारिया अब  फिल्म ‘सुई-धागा’ लेकर आए हैं। यह फिल्म वर्तमान उपनगरीय परिवेश में रहने वाले वाले किरदारों के सादगी भरे जीवन की कहानी कहती है।

->