संजय मिश्रा की फिल्म 'वाह ज़िंदगी' का है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस अभियान से संबंध

कोरोना वायरस पर राष्ट्र को संबोधित करते समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता से 'आत्मनिर्भर भारत' बनाने का आह्वान किया था। संयोग से इसी अभियान पर आधारित एक फिल्म भी बॉलीवुड में बन रही है, जिसका नाम है 'वाह ज़िंदगी'। अशोक चौधरी द्वारा निर्मित इस फिल्म में संजय मिश्रा, विजय राज जैसै कलाकार मुख्य भूमिका में हैं। 

wah zindagi is based on narendra modi's aatmnirbhar bharat
कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। इस वायरस ने विश्व को दो तरफा नुकसान पहुंचाया है। एक तरफ लोगों को इस महामारी से बचाने के लिए तमाम उपाय किए जा रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ विश्व की अर्थव्यवस्था को तहस-नहस कर दिया है। 

इस समस्या से भारत भी दो-चार हो रहा है। ऐसे में प्रधानमंत्री ने इस स्थिति से निकलने के लिए 'आत्मनिर्भर' बनने और स्वदेशी सामानों की खरीदारी की अपील की है। 

अब इसी बीच एक दिलचस्प संयोग यह है कि जहां एक तरफ प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर बनने की अपील करते हैं, वहीं दूसरी तरफ बॉलीवुड में एक फिल्म बन रही है, जो इसी विषय पर आधारित है। अशोक चौधरी द्वारा निर्मित फिल्म 'वाह जिंदगी' भी स्वदेशी को अपनाने और 'मेक इन इंडिया' की बात करने वाली फिल्म है। 

फिल्म की कहानी एक ऐसे व्यक्ति पर आधारित है, जिसे अपना स्वदेशी सामान बनाने और बेचने के लिए विदेशी सामान के साथ बाजार में भारी मुकाबला करना पड़ता है। 

इस फिल्म में संजय मिश्रा, विजय राज, नवीन कस्तूरिया, प्लाबिता बोरथाकर जैसे कलाकार अहम किरदारों में दिखाई देंगे। 

अशोक चौधरी इस फिल्म को प्रोड्यूस किया है और डायरेक्शन दिनेश एस यादव का है। बता दें इससे पहले अशोक और दिनेश की जोड़ी ने फिल्म 'टर्टल' बनाई थी, राजस्थान में पानी के संकट पर बनी थी। इस फिल्म‌ को राष्ट्रीय पुरस्कार से भी नवाजा गया था।

वहीं फिल्म 'वाह ज़िंदगी' को अशोक चौधरी ने मौजूदा दौर में बहुत प्रासंगिक फिल्म बताया, वो कहते हैं, 'इस फिल्म के जरिये हमने मनोरंजक ढंग से एक बेहद अर्थ पूर्ण कहानी कहने की कोशिश की है। एक ऐसी कहानी जो आज के दौर में स्वदेशी के महत्व को बखूबी दर्शाती है।' 

वो आगे कहते हैं, 'हमें इस बात पर गर्व है कि लोगों को अब इस बात का अहसास हो रहा है कि स्वदेशी केवल मुख्यधारा की बात नहीं, बल्कि एक जीवन धारा की तरह है। मुझे उम्मीद है कि प्रधानमंत्री के इस भाषण के बाद लोग उनके कहे गए शब्दों को अपने जीवन में उतारेंगे और इसे सिर्फ अस्थायी व्यवस्था के तौर पर नहीं लेंगे। हमारी फिल्म भी लोगों को यही संदेश देने की असरदार कोशिश है।'

फिल्म को लेकर कहा जा रहा है कि पहले फिल्म सिनेमाघरों में रिलीज़ होने वाली थी, लेकिन अब मेकर्स इसे ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ करने को लेकर विचार कर रहे हैं।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां