देबिना बनर्जी ने कहा कि 'रामायण' की शूटिंग का हर पल यादगार रहा!

देबिना बनर्जी ने 'रामायण' के शूटिंग दो सालों की यादों को साझा करते हुए कहा कि इनको संक्षेप में नहीं बताया जा सकता, क्योंकि उन दो वर्षों का हर पल यादगार था। बता दें आनंद सागर के 'रामायण' में देबिना ने जहां 'सीता' की भूमिका निभाई थी। वहीं देबिना के रियल लाइफ पार्टनर गुरमीत चौधरी ने 'राम' की भूमिका निभाई थी। 

Debina bonerjee says during 'ramayan' every moment is memorable
आनंद सागर की 'रामायण' दंगल चैनल पर प्रसारित हो रहा है। इस पौराणिक धारावाहिक ने दो सितारों को जन्म दिया और वह हैं गुरमीत चौधरी और देबिना बनर्जी। रील लाइफ में जहां इन्होंने 'राम-सीता' की भूमिका निभाई थी। वहीं रियल लाइफ में दोनों अब पति-पत्नी हैं। 

साल 2008 में प्रसारित हुए इस धारावाहिक में 'सीता' बन कर दर्शकों का दिल जीत लेने वाली देबिना उन दिनों को याद करते हुए कहती हैं, 'उन दो सालों की यादों को संक्षेप में बयां करना काफी मुश्किल है, क्योंकि उन दो वर्षों का हर पल यादगार रहा।'

जब उनसे सेट से जुड़े कुछ क़िस्से साझा करने के लिए कहा गया, तो उन्होंने कहा, 'इस धारावाहिक को दोबारा से टीवी पर देखना यादों का एक के बाद एक गिरने जैसा है। पहली बार 'सीता' की तरह तैयार होना या फिर वनवासी बन जाना। तब वैनिटी वैन की कमी या फिर गर्मी यह कुछ भी उस वक्त मायने नहीं रखते थे, क्योंकि वो हमारा पहला काम था। आज जब मैं यह सभी सुविधाएं सेट पर देखती हूं, तो याद करती हूं कि जब हमारे पास इनमें से कोई भी सुविधा नहीं थी, इसके बावजूद भी एक जबरदस्त धारावाहिक हमने दर्शकों को दिया। हम लोगों में वनवास के सीन असल के जंगल में शूट किए थे। जंगल में वैनिटी वैन होना संभव ही नहीं थी।'

अपने हिन्दी उच्चारण को लेकर देबिना ने कहा, 'इसके लिए मुझे कुछ महीने लगे, क्योंकि मैं जिस भूमिका को निभा रही थी, उसके लिए शुद्ध हिन्दी के साथ बॉडी लैंग्वेज पर भी काम करना ज़रूरी थी। शुरुआत में तो मैं सिर्फ हंसती ही थी, क्योंकि तब मेरे लिए सबकुछ नया था।'

देबिना ने यह भी बताया कि दिन के 17-18 घंटे की शूटिंग करते थे। वो कहती हैं, 'जब आप अपने काम को प्यार करते हैं, तो अतिरिक्त समय देने में आपको दिक्कत नहीं होती है और वैसे भी हम सभी यंग, एंथुसियास्टिक थे और अच्छा समय बिता रहे थे।'

टिप्पणियां