सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अमित छवि अदाकार अमिताभ बच्चन

जी बिलकुल, अमिताभ का शाब्दिक अर्थ होता है 'अमित छवि या कभी न बुझने वाली लौ'। अपने नाम को सत्य करते हुए अमिताभ बच्चन ने न सिर्फ़ सदी के महानायक, बल्कि ऐसे कई नामों का भी ख़िताब अर्जित किया है। वे अपना 73 वां जन्मदिन मना रहे हैं। हर बार की तरह इस बार भी वे मीडिया से मुख़ातिब हुए ....

अमिताभ बच्चन जन्मदिन के अवसर पर प्रशंसकों का अभिवादन स्वीकार करते हुए
मुंबई। अमिताभ बच्चन बॉलीवुड में ऐसे मुक़ाम का नाम है, जिसे पाने का ख़्वाब लिए हर नया अदाकार मायानगरी में कदम रखता है। इस मुक़ाम को पाने के लिए हर संघर्षरत अभिनेता को प्रेरणा मिलती है।

आज अमिताभ अपना 73 वां जन्मदिन मना रहे हैं। इस उम्र में भी वे काफ़ी सक्रिय हैं। छोटे परदे से लेकर बड़े परदे पर हर रोज़ नई चुनौतियों को स्वीकार कर रहे हैं और उन पर ख़ुद को खरा भी साबित कर रहे हैं।

अन्य दिनों की तरह

अपने जन्मदिन को भव्य समारोह के बजाय सादा तरीक़े से मनाने का निर्णय लिया है। अन्य सामान्य दिनों की तरह वह अपने परिवार के साथ समय बिताएंगे।

इस बारे में उन्होंने कहा, '' किसी अन्य सामान्य दिनों की तरह ही परिवार के साथ रहूंगा। कुछ ख़ास नहीं होगा। "मीडिया को बताया," अभी तक आराध्या से नहीं मिला, जब मिलूंगा तब देखूंगा कि आराध्या क्या गिफ्ट देती है? सबसे बड़ा तोहफा स्नेह होता है। बधाई देने के लिए चाहने वालों का शुक्रिया। "

उन्होंने कहा, '' ईश्वर की कृपा से मेरा वर्तमान बहुत व्यस्त है, ऐसे में पीछे मुड़ कर देखने और आकलन करने का समय कम है। लेकिन यदि आकलन करना भी हो, तो किसका? '' आगे कहा, "निजी स्तर पर बात करूं, तो मेरा परिवार है। 

पेशेवर क्षेत्र में मेरे पास कुछ काम है, जिस पर मैं काम कर रहा हूं, मैं दोनों पर बराबर समय बीता रहा हूं। हरेक गुजरा हुआ साल मेरे लिए एक पुरस्कार है। ''

साथ ही प्रशंसकों की शुभकामनाओं के लिए उन्हें धन्यवाद देते हुए कहा, "सभी से व्यक्तिगत रूप से मिलना तो संभव नहीं। लेकिन सभी की शुभकामनाओं के लिए तहे दिल से शुक्रिया।"

बायोपिक नहीं

तीन बार के राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अमिताभ बच्चन जैसी हस्ती पर एक बायोपिक तो बननी चाहिए। जब यह सवाल मेगा स्टार से किया गया, तो उन्होंने कहा, "मैं नहीं चाहता कि मुझ पर बायोपिक बने। मेरी बायोपिक फ़्लॉप हो जाएगी।"

उम्र के इस पड़ाव में भी किसी नवयुवक की तरह उत्साह दिखाने वाले अमिताभ 'अब उम्र हो गई' का बहाना बनाकर, ज़्यादा तामझाम से किनारा करने की बात करते हैं। तभी तो एक सवाल के जवाब में कहा, "अब उम्र हो गई है, कहां जन्मदिन मनाने जाऊंगा।"।

सक्रियता

इस वर्ष, दर्शक उन्हें उनकी आगामी फिल्म 'वजीर' और उनका नया टीवी शो 'आज की रात है जिंदगी' में नई भूमिकाओं में देखेंगे। इस उनकी तीन फ़िल्में आईं, 'शमिताभ', 'पीकू' और 'वजीर'। तीनों ही सफल रहीं। इस पर अमिताभ कहते हैं कि अपनी अलग तरह की पटकथा की वजह से ये फ़िल्में सफल रहीं।

हाल ही में वे एक टेलीविज़न शो 'आज की रात है जिंदगी' से भी जुड़ गए हैं। इसके बारे में उन्होंने कहा कि सबकुछ करना मुश्क़ल होता है। लेकिन में इन सबको बेहतरीन ढंग से करने की हरसंभव कोशिश करूंगा।

वे कहते हैं कि जब तक मेरा शरीर चले, तक तब काम का ये सिलसिला भी चलता रहे। वे टेलीविज़न के माध्यम को बड़ा बताते हैं और अपने करियर को दोबरा शुरू करने के लिए 'कौन बनेगा करोड़पति' का धन्यवाद भी अदा किया।

एक नज़र सफ़र पर

सांवली रंगत और ऊंचा कद लिए एक युवक मुंबई अाया था, ताकि वो बॉलीवुड में बेहतरीन अदाकार बन सके। उसने काफ़ी उतार-चढ़ाव का सामना किया, संघर्ष के दिन राम काटे और आख़िरकार उसने वो मुक़ाम हासिल कर लिया, जो शायद उसने समने में भी नहीं देखा था।

संघर्ष, सपने, मेहनत और उत्साह का जीता-जागता नमूना है सदी का महानायक कहा जाने वाला ये शख़्स, जिसे लोग अमिताभ बच्चन कहते हैं।

अमिताभ का जन्म 11 अक्टूबर 1942 को उत्तर प्रदेश के इलाहबाद में हुआ। प्रसिद्ध हिंदी कवि डॉ। हरिवंश राय बच्चन उनके पिता थे। उनकी मां तेजी बच्चन को थिएटर में रुचि रखती थीं, लेकिन शादी के बाद वे अपने घर में रम गईं। उनके माता-पिता जी का निधन चुका है हो। पिता जी वर्ष 2003 में अमिताभ का साथ छोड़ गए और माता जी 21 दिसंबर 2007 को उन्हें अलविदा कह गईं।

उन्हें अपने करियर की शुरुआत में कई तरह के मज़ाक भी सहने पड़े। कुछ फ़िल्मों से तो उनके ऊंचे क़द की वजह से उन्हें निकाल दिया गया था। यहां तक ​​कि आज जिस आवाज़ की दिवानी दुनिया है, उसका भी उपहास बनाया गया।

लेकिन कहते हैं कि काग़ज अपनी क़िस्मत से उड़ता है, और पतंग अपनी काबिलियत से उड़ान भरता है। अमिताभ ने भी पतंग की तरह अपनी काबिलियत से वो ऊंची उड़ान भरी।

अभिनेत्री जया भादुड़ी से शादी की। इनदोनों की पहली मुलाक़ात एफटीआईआईआई (फ़िल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट) पुणे में हुई। अमिताभ-जया को एक बेटी श्वेता नंदा और एक बेटा अभिषेक बच्चन हैं। दोनों की शादी हो चुकी है। श्वेता के एक नातिन नव्या नवेली, नाती अगस्त हैं। अभिषेक की शादी अभिनेत्री ऐश्वर्या से हुई है और दोनों की एक बेटी आराध्या है।

फ़िल्मी फ़ेहरिस्त

अपने चार दशक से अधिक लंबे करियर में बच्चन ने 'जंजीर', 'रोटी कपड़ा और मकान', 'खुदा गवाह', 'कुली', 'कुंवारा बाप', 'फरार', 'शोले', 'चुपके चुपके', 'कसमें वादे ',' त्रिशूल ',' मुकद्दर का सिकंदर ',' मि। नटवरलाल ',' काला पत्थर ',' दोस्ताना ',' सिलसिला ',' शान ',' लावारिस 'और' शक्ति 'दीवार', 'डॉन', 'अभिमान', 'अग्निपथ', 'ब्लैक', 'सरकार' 'चीनी कम', 'पा', 'सत्याग्रह' और 'पीकू' सहित अन्य फिल्मों में शानदार अभिनय किया है। 

भारत में काम करने के अलावा उन्होंने 2013 में बैज लुहरमन की हॉलीवुड फिल्म 'द ग्रेट गैट्सबी' में अभिनय किया था। इसके अलावा उन्होंने 'कौन बनेगा करोड़पति' कई रियलिटी शो से भी दर्शकों को अपना दिवाना बनाया।

संबंधित ख़बरें
आगे क्या अलग है 'बिग बॉस 9' में