सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बिग-बी को नहीं चाहिए 'यशभारती' पेंशन

महानायक अमिताभ बच्चन ने उत्तर प्रदेश सरकार के 'यशभारती' सम्मान के पेंशन को लेने से इनकार कर दिया है। पेंशन राशि 50 हजार प्रतिमाह की थी। इसकी सूचना शहंशाह ने अपने आधिकारिक बयान में दी है।

महानायक अमिताभ बच्चन ने उत्तर प्रदेश सरकार के 'यशभारती' सम्मान के पेंशन को लेने से इंकार कर दिया है। पेंशन राशि 50 हजार प्रतिमाह की थी। इसकी सूचना शहंशाह ने अपने आधिकारिक बयान में दी है।
मुंबई। यूं ही नहीं अमिताभ बच्चन को शहंशाह बुलाया जाता है। वे गाहे-बगाहे साबित अपना बड़प्पन साबित करते रहते हैं।

ताज़ा मामला है उत्तर प्रदेश सरकार के 'यशभारती' सम्मान पेंशन लेने से इंकार किया। इस इंकार की वजह में बिग-बी ने कहा है कि वे अपना भरण पोषण करने में सक्षम है, तो इस पुरस्कार राशि को किसी ट्रस्ट या ज़रूरतमंद को दे दिया जाए।

दरअसल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मंगलवार को 'यशभारती' से सम्मानित व्यक्ति को प्रतिमाह 50 हज़ार रुपए पेंशन देने की घोषणा की थी।

इस घोषणा के बाद अमिताभ बच्चन ने अपने परिवार की ओर से यूपी सरकार को गुज़ारिश की है कि ये पेंशन उनके परिवार को देने के बजाय किसी ज़रूरतमंद को दिया जाए।

अपने बयान में वे कहते हैं, "मैं यूपी सरकार की तरफ से मेरे परिवार को मिले यशभारती सम्मान का आदर करता हूं।"। आगे कहते हैं, "जैसा कि ख़बरों से पता चला कि हर अवॉर्डी को 50 हजार रुपये महीने पेंशन की घोषणा की गई है, मैं सरकार के इस फैसले का भी स्वागत करता हूं, लेकिन मेरी यूपी सरकार से गुजारिश है कि ये राशि किसी जरूरतमंद को दें। मैं इस बारे में यूपी के सीएम को अलग से पत्र लिखूंगा। '

शुरुआत

यशभारती पुरस्कारों की शुरुआत वर्ष 1994 में समाजवादी पार्टी की सरकार द्वारा की गई थी। सबसे पहले इस से डॉ। हरिवंश राय बच्चन सम्मानित किए गए। इसके अमिताभ बच्चन और जया बच्चन भी सम्मानित हुए। वहीं अभिषेक बच्चन को वर्ष 2006 में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

शुरुआती दौर में इस पुरस्कार के साथ दी जाने वाली धनराशि पांच लाख रुपए थी, जिसे कुछ सालों पहले बढ़ाकर ग्यारह लाख कर दिया गया। बीते 20 सालों में यह पुरस्कार 140 लोगों को दिया जा चुका है।

बता दें कि वर्ष 2013 व 2014 यशभारती अापको पुरस्कारों का वितरण इसी साल नौ फरवरी को के किया गया था। जिसमें कुल 55 लोगों को सम्मानित किया गया था।

सम्मानित

कैफी आज़मी, शबाना आजमी, उस्ताद बिस्मिल्ला खां, गिरिजा देवी, सितारा देवी, हरिप्रसाद चौरसिया, नवाजुद्दीन सिद्दीकी, श्रीलाल शुक्ल, कुलदीप नैयर, राजपाल यादव, मो। कैफ, पं। छन्नूलाल मिश्र, विशम्भर सिंह, मलखान सिंह, राजेन्द्र यादव, वसीम बरेलवी, अनूप जलोटा, जिम्मी शेरगिल, अलका तोमर, गीतकार समीर, रेखा भारद्वाज, कैलाश खेर, जगतगुरु रामानंदाचार्य स्वामी भद्राचार्य, परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र सिंह यादव प्रमुख यशभारती अवार्डी हैं।

पद्मभूषण गोपाल दास नीरज, पद्मश्री राज बिसारिया, साहित्यकार श्रीलाल शुक्ल, गायिका मालिनी अवस्थी, कवि उदय प्रताप सिंह, मुजफ्फर अली, इतिहासकार डॉ। योगेश प्रवीण, आर्टिस्ट जयकृष्ण अग्रवाल, उर्मिल कुमार थपलियाल, शिक्षाविद जगदीश गांधी शहर के प्रमुख यशभारती अवार्डी हैं।

संबंधित ख़बरें
आगे शाहरुख़ नहीं करना चाहते थे डीडीएलजे!