सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

‘तीन तलाक़’ के चलते बदला था फिल्म ‘निकाह’ का पहला नाम

इन दिनों ‘ट्रिपल तलाक़’ मुद्दा गरमाया हुआ है। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए ‘तीन तलाक़’ को असंवैधानिक करार दिया। इसी मुद्दे पर बनी फिल्म ‘निकाह’ का नाम रिलीज़ से ऐन पहले ही बदला गया। 

फिल्म निकाह  का पोस्टर
मुंबई। बी आर चोपड़ा की साल 1982 में आई फिल्म ‘निकाह’ का नाम पहले ‘तलाक़, तलाक़, तलाक़’ था, लेकिन इसे रिलीज़ के ऐन पहले ही बदल दिया गया। यहां तक कि फिल्म को रिलीज़ से पहले रातोंरात मौलवियों को बुलाकर भी दिखाया गया था। 

राज बब्बर, सलमा आग़ा और दीपक पराशर की मुख्य भूमिका वाली फिल्म ‘निकाह’ ‘तीन तलाक़’ के मुद्दे पर आधारित थी। इसे अचला नागर ने लिखा था। 

अचला नागर ने एक पोर्टल को दिए इंटरव्यू में बताया था कि फिल्म ‘निकाह’ का नाम ‘तलाक़, तलाक़, तलाक़’ था, लेकिन किसी निर्माता ने पहले ही अपनी फिल्म के लिए ये नाम रजिस्टर करवा लिया था। इस वजह से इसका नाम बदलना पड़ा। 

इसी से जुड़ा एक क़िस्सा बताते हुए अचला ने बताया कि चरित्र अभिनेता ने इस फिल्म के पहले नाम पर चुटकी लेते हुए बी आर चोपड़ा से कहा था कि अच्छा किया, जो आपने नाम बदल दिया। वरना हम बीवी से कहते चलो ‘तलाक़, तलाक़, तलाक़’ देखने तलते हैं और हमारा फिल्म देखने से पहले ही तलाक़ हो जाता। 

बता दें कि इस फिल्म कहानी एक ऐसी मुस्लिम औरत नीलोफर की थी, जिसका पति वसीम उसे तलाक़ दे देता है। बाद में उसे अपनी ग़लती का अहसास होता है और वो दोबारा शादी करना चाहता है। मौलवी तलाक़ दी हुई बीवी से दोबारा शादी करने के लिए उसका हलाला करने को कहता है। 

हलाला, मतलब जब बीवी किसी ग़ैर मर्द के साथ शादी करे और वो एक महीना उसके पास रहे, यानी माहवारी आने तक उसके पास रहे। फिर उसे तलाक दिया जाए। इसके बाद पहले शौहर से वो दोबारा शादी कर सकती है। 

तलाक़शुदा नीलोफर को कॉलेज का दोस्त हैदर मिलता है और उसे अपने प्रेस में नौकरी देता है। इसी बीच नीलोफर को इस बात का अहसास होता है कि हैदर उसे चाहता है और वो उससे निकाह करना चाहता है। नीलोफर और हैदर शादी कर लेते हैं, तभी वसीम की भेजी हुई चिट्ठी हैदर के हाथ लग जाती है। हैदर को लगता है कि नीलोफर भी वसीम से शादी करना चाहती है। 

ख़ैर, बाकी की फिल्म आपको देखनी होगी, क्योंकि अंत काफी चौंकाने वाला होता है। इस फिल्म को दर्शकों के साथ समीक्षकों का भरपूर समर्थन मिला था। इसके गाने आज भी लोग पसंद करते हैं। इस फिल्म के सलमा आग़ा को बेस्ट प्लेबैक सिंगर का अवॉर्ड भी मिला था। वहीं अचला नागर को बेस्ट डायलॉग का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था। 

संबंधित ख़बरें