सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राज बब्बर को याद आईं स्मिता पाटिल

हिन्दी सिने जगत की बेहतरीन अभिनेत्रियों में शुमार स्मिता पाटिल को गुज़रे हुए 31 साल हो गए। एक तरफ उनकी बेजोड़ प्रतिभा के लोग कायल थे, तो दूसरी तरफ निजी जीवन में विवाहित आदमी की दूसरी पत्नी बनने का दंश सालता रहा। 13 दिसंबर को 1986 में स्मिता का निधन हो गया था। अब अपनी पत्नी और अदाकारा स्मिता को याद करते हुए राज बब्बर ने सोशल मीडिया पर एक भावुक मैसेज भी साझा किया है। 

राज बब्बर ने याद किया स्मिता पाटिल को
मुंबई। 13 दिसंबर को मशहूर अदाकारा स्मिता पाटिल की पुण्यतिथि थी। 80 के दशक की बेजोड़ अदाकारा को हिन्दी सिनेमा में दिए गए अपने योगदान के लिए जाना जाता है।

जब सभी सिनेप्रेमी स्मिता को याद कर रहे थे। उसी दौरान उनके पति अभिनेता से राजनेता बने राज बब्बर ने भी अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए सोशल मीडिया का रुख किया। 

राज बब्बर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर स्मिता के लिए भावुक मैसेज लिखा। उन्होंने लिखा, ‘आज 31 साल हो गए...जब तुम गयीं थीं तब भी तुम सिर्फ 31 साल की थीं...लेकिन हमेशा अपने अनुभवों की सीमा के बहुत आगे खड़ी मिलीं... जीवन में सब कुछ बहुत जल्द जी लिया... तुम्हारी अनुपस्थिति पर अब भी यक़ीन नहीं होता...’



ग़ौरतलब है कि 28 नवंबर 1986 को स्मिता ने प्रतीक बब्बर को जन्म दिया। इसी दौरान ही उन्हें कुछ मेडिकल प्रॉब्लम हो गई और उससे कई दिनों तक जूझने के बाद 13 दिसंबर को दम तोड़ दिया। 

स्मिता पाटिल ने राज बब्बर से शादी की थी। जहां स्मिता की यह पहली शादी थी, तो वहीं राज बब्बर की दूसरी शादी थी। राज बब्बर पहले से ही नादिरा बब्बर से ब्याह कर चुके थे। राज से शादी करने के लिए स्मिता पर ‘घर तोड़ने’ के भी आरोप लगे और उनकी आलोचनाएं भी हुईं। 

राज बब्बर और स्मिता की मुलाक़ात ‘भीगी पलकें’ के सेट पर ही थी। इसके बाद दोनों में प्यार हो गया। वहीं स्मिता की मां को राज बब्बर और स्मिता का ये ‘प्यार’ रास नहीं आ रहा था। इसकी वजह यह थी कि राज न सिर्फ शादीशुदा थे, बल्कि उनके दो बच्चे भी थे। 

स्मिता की मां की नाराजगी के बावजूद भी राज बब्बर ने नादिरा और बच्चों को छोड़ कर स्मिता से ब्याह कर लिया। हालांकि, इसके बाद राज बब्बर को थोड़ा-बहुत सुनने को मिला, लेकिन स्मिता को इस रिश्ते के लिए काफी कुछ सुनने को मिला। पीठ पीछे लोग स्मिता को ‘घर तोड़ने वाली’, ‘दूसरी औरत’ सरीख़े उपनामों से बुलाने लगे थे। 

ख़ैर, जब एक इंटरव्यू के दौरान राज बब्बर से इस फ़ैसले के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा था कि नादिरा के साथ ख़राब रिशतों की वजह से मैं स्मिता के प्यार में नहीं पड़ा था। ये बस हो गया। नादिरा काफी समझदार थीं। उसने मेरी भावनाओं को समझा और मुझे आसानी से फ़ैसला लेने दिया। 

हालांकि, स्मिता के निधन के बाद राज बब्बर वापस नादिरा के पास लौट आए। नादिरा और राज ने एक बार फिर से शादी कर ली।

संबंधित ख़बरें