विक्की कौशल एक्टर बनने से पहले थे इस सुपरहिट फिल्म के असिस्टेंट डायरेक्टर

एक्टर विक्की कौशल ने अपने करियर की शुरुआत अनुराग कश्यप की फिल्म 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' में बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर से की थी। विक्की के पास इंजीनियरिंग की डिग्री है, लेकिन उनको एक्टर बनना था। इसलिए उन्होंने बकायदा एक्टिंग कोर्स भी किया है। ऐसी ही और भी दिलचस्प जानकारी विक्की के जन्मदिन पर हम आपको देने जा रहे हैं। 

happy birthday vicky kaushal
आज विक्की कौशल अपना 32वां जन्मदिन मना रहे हैं। अभी भी किसी से पूछें, तो आपको जवाब मिलेगा कि विक्की ने अपना करियर फिल्म 'मसान' से शुरू किया था, लेकिन सही जानकारी यह है कि विक्की का सफर साल 2009 से ही शुरू हो गया था। 

विक्की ने अपने करियर के सफर में बीते साल एक कॉन्क्लेव में बताया था, 'सब कुछ किसी सपने की तरह है। कभी-कभी अहसास होता है कि मुझ पर ईश्वर की कृपा रही है। एक्टिंग के फील्ड में आने से पहले ही मुझे पता था कि प्रोड्यूसर और डायरेक्टर्स मेरे इंतज़ार में नहीं बैठे होंगे। मेरा सफर साल 2009 में शुरू हुआ था, तब मैंने अपनी ग्रेजुएशन पूरी की थी। इसके बाद एक्टिंग की फील्ड में आने का फैसला ले लिया, जिसके बाद मैंने एक्टिंग कोर्स में एडमिशन लिया। इसके साथ थिएटर करने लगा। तभी मुझे फिल्म 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' में बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर काम मिल गया। सब कुछ साथ-साथ चलता रहा।'

अपने इस सफर में मां की सीख का जिक्र करते हुए कहा था कि वो इस दौरान एड फिल्म्स, फिल्म्स, शॉर्ट फिल्म्स सभी के लिए ऑडि‍शन दे रहे थे। तब उन्हें लग गया था कि उनकी मंजिल अभी काफी दूर है और वो निराश हो गए थे। अपनी मां से कहा था उनको कुछ समझ नहीं आ रहा है। आखिर यह सब कैसे होगा। 

विक्की ने कहा, 'तब मेरी मां ने कहा कि ये होगा या नहीं होगा ये तुम्हारी जिम्मेदारी नहीं है। तुम्हें बस यह यकीन जिंदा रखना है कि यह हो जाएगा।' 

मां की इस बात ने विक्की को एक नया नज़रिया दिया और वो सबकुछ अलग तरीके से देखने लगे। 

चॉल से स्टार तक का सफर

विक्की कौशल का जन्म 16 मई, 1988 को मुंबई में हुआ था। विक्की के जन्म के समय उनका परिवार मुंबई के चॉल में रहा करता था। हालांकि, विक्की के पिता बॉलीवुड में जाने-माने स्टंटमैन हैं और वो कई फिल्मों को एक्शन डायरेक्टर भी रहे हैं, लेकिन एक समय ऐसा था, जब विक्की के पिता को बॉलीवुड में काम पाने के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था।

विक्की के पिता श्याम कौशल नहीं चाहते थे कि उनकी तरह उनके बच्चे इस अनसर्टेन यानी अस्थिर प्रोफेशन में आएं। इसलिए उन्होंने विक्की को कोई सिक्योर जॉब की सलाह दी। इस तरह विक्की को मुंबई के राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग करवाया। हालांकि, विक्की को इंजीनियर नहीं एक्टर बनना था और यह उनका बचपन का सपना था। 

इंजीनियरिंग करने के बाद कैम्पस सिलेक्शन में उनको कई अच्छे फर्म से ऑफर मिले, लेकिन एक्टिंग के जुनून में विक्की ने उनमें से किसी को एक्सेप्ट नहीं किया। इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद उन्होंने 'किशोर नमित कपूर एक्टिंग एकेडमी' से एक्टिंग कोर्स किया और शुरू हो गया सफर। 

यह तो आपको बता ही चुके हैं कि अनुराग कश्यप की फिल्म 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' में असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर विक्की ने अपने करियर की शुरुआत की थी। ख़ैर, इस फिल्म के बाद साल 2012 में आई अनुराग कश्यप की फिल्म 'लव शव ते चिकन खुराना' में उनको एक छोटी सी भूमिका दी। इसके बाद फिल्म 'बॉम्बे बेलवेट' में भी एक छोटा-सा किरदार मिला। 

विक्की के लिए साल 2015 लाइफ चेंजिंग ईयर बन कर आया, जब उनको फिल्म 'मसान' में बतौर लीड कास्ट किया गया। फिल्म में उन्होंने जबरदस्त परफॉर्मेस दी थी, जिसे दर्शकों ने काफी पसंद भी किया। इस फिल्म के बाद विक्की को कई फिल्मों के ऑफर मिले।

'मसान' के बाद विक्की 'जुबान', 'रमन राघव 2.0', 'राजी', 'संजू' जैसी कई फिल्मों में नजर आए, लेकिन उनके फिल्मी करियर को एक और स्पाइक मिला साल 2019 में आई फिल्म 'उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक'। इस फिल्म ने विक्की कौशल के नाम का सिक्का जमा दिया। फिल्म को क्रिटिक्स ने तो सराहा ही, दर्शकों ने भी खूब पसंद किया और फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्डतोड़ कमाई की। 

वहीं यदि विक्की की अपकमिंग फिल्मों की बात करें, तो वह शूजित सराकार की फिल्म में 'उधम सिंह' में नजर आने वाले हैं। इसके अलावा करण जौहर की फिल्म 'तख्त' भी अहम भूमिका में दिखाई देंगे।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां