शाहरुख खान को लॉकडाउन ने सिखाए पांच लाइफ लेसन, आप भी जानिए

शाहरुख खान ने बताया कि इस लॉकडाउन ने हमें क्या सिखाया है। इस दौरान उन बातों का अहसास हुआ, जिसे पहले कभी महसूस नहीं किया। सीख की उन पांच बातों को सोशल मीडिया पर शाहरुख ने शेयर भी किया है। चलिए आपको भी बताते हैं कि शाहरुख को लॉकडाउन ने किन-किन बातों का अहसास दिलाया है। 

shahrukh khan life lessions amid lockdown
शाहरुख खान ने अपने सोशल मीडिया पर लॉकडाउन के दौरान सीखी पांच बातों का जिक्र किया है। आब देश कोरोनो वायरस महामारी से जूझ रहा है, जिसके चलते लॉकडाउन लगाया गया है। 

मार्च से शुरू लॉकडाउन की वजह से लोग घरों में रह रहे हैं। इस दौरान फिल्म और टीवी इंडस्ट्री समेत और भी कई व्यवसाय ठप्प पड़े हैं। कुछ लोग नेगेटिव हो रहे हैं और डिप्रेशन की बात कर रहे हैं, तो वहीं शाहरुख खाने इस लॉकडाउन में सीखे पांच लाइफ लेसन का जिक्र कर रहे हैं। 

लॉकडाउन के दौरान मिले लाइफ लेसन के बारे में शाहरुख ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर किया है। अपनी पोस्ट में जिन पांच तरह की सीखों का जिक्र किया है, जो इस प्रकार हैं:-

  • हम अपनी कई इच्छाओं की पूर्ती किए बगैर जी रहे हैं। इनमें से कई तो उतनी मायने भी नहीं रखतीं, जितना हम उनके बारे में सोचते हैं।

  • हमें आपने आसपास (भावनात्मक रूप से) इससे ज्यादा लोगों की जरूरत नहीं, जितनों से हम लॉकडाउन में बात कर सकते हैं।

  • हम कुछ पल के लिए घड़ी को रोक सकते हैं और अपनी जिंदगी के बारे में दोबारा कल्पना कर सकते हैं, क्योंकि झूठे कागजों (रुपए-पैसे) को पाने की सारी हड़बड़ी हमसे दूर हो चुकी है।

  • हम उनके साथ भी हंस सकते हैं, जिनसे हमने खूब लड़ाई की है। यह समझ सकते हैं कि हमारे विचार उनसे बड़े नहीं थे।

  • इन सबसे ऊपर प्यार के अपने मायने हैं। इससे फर्क नहीं पड़ता कि किसी ने आपसे क्या कहा है।



A post shared by Shah Rukh Khan (@iamsrk) on

शाहरुख खान लॉकडाउन के दौरान अपने परिवार के साथ मुंबई स्थित अपने रह रहे हैं। हाल ही में वे कोविड-19 के खिलाफ जारी लड़ाई के लिए फंड जुटाने ग्लोबल कॉन्सर्ट आई फॉर इंडिया में नज़र आए थे।

इसके अलावा उन्होंने अपनी कंपनियों रेड चिलीज एंटरटेनमेंट, मीर फाउंडेशन, कोलकाता नाइट राइडर्स और रेड चिलीज वीएफएक्स के जरिये कई तरह के राहत कार्यों में मदद भी पहुंचाई। इनमें पीएम केयर्स फंड और महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल के सीएम रिलीफ फंड समेत कुछ एनजीओ और दिहाड़ी मजदूरों के लिए काम करने वाले संगठनों को पहुंचाई गई मदद भी शामिल है।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां