'गुलाबो सिताबो' की 'फत्तो' फारुख ज़फर ही हैं 'उमराव जान' की 'अम्मी'



शूजित सरकार के निर्देशन में बनी फिल्म 'गुलाबो सिताबो' में 'फातिमा हवेली' की मालकिन 'फातिमा बेगम' की सोशल मीडिया पर काफी चर्चा हो रही है। 'फातिमा' उर्फ 'फत्तो' की भूमिका अभिनेत्री फारुख ज़फर ने निभाई है। फारुख अब तक कई फिल्मों में छोटी लेकिन अहम भूमिकाएं निभा चुकी हैं। सलमान खान, शाहरुख खान, आमिर खान, नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी और कंगना रनौत की फिल्मों में नज़र आ चुकी फारुख ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत रेखा की फिल्म 'उमराव जान' से की थी। चलिए डालते हैं, उनके सफर पर एक नज़र

Farrukh zafar in film 'Tanu weds manu' as 'Dadi'
शूजित सरकार के निर्देशन में बनी फिल्म 'गुलाबो सिताबो' अमेज़न प्राइम वीडियो पर रिलीज़ हो गई है। अमिताभ बच्चन और आयु्ष्मान खुराना की मुख्य भूमिका वाली इस फिल्म को देखने के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी है। 

इसी बीच सोशल मीडिया पर 'बेगम' ट्रेंड होने लगी हैं। अब जिन्होंने फिल्म देख ली है, वो तो जानते हैं कि फिल्म में 'बेगम' कौन हैं, लेकिन जिन्होंने अब तक फिल्म न देखा हो, उनको बता दें कि फिल्म में 'फातिमा हवेली' की मालकिन 'फातिमा बेगम' हैं, जिनकी भूमिका अभिनेत्री फारुख ज़फर ने निभाई है। 

अब फिल्म में जहां 'मिर्ज़ा' अमिताभ बच्चन बने हैं, वहीं 'बांके' की भूमिका में आयुष्मान खुराना हैं। दोनों को हवेली पर कब्जा चाहते हैं, लेकिन आखिर में 'फातिमा' अपनी हवेली का मालिकाना हक़ पुराने आशिक़ को देकर खुद उसके साथ फुर्र हो जाती हैं। 

मज़ेदार बात तो यह है कि 'मिर्ज़ा' ने खुद से 17 साल बड़ी 'फत्तो' से निकाह भी निगोड़ी 'हवेली' के लिए ही किया था, लेकिन आखिर में 'मिर्ज़ा' के अरमानों पर बर्फ सा ठंडा पानी फेर, 'फत्तो' चली जाती है। 

फिल्म की कहानी चाहे जैसी हो, फिल्म चाहे जैसी बनी हो, लेकिन 'फत्तो' बेगम ने दर्शकों का दिल जीत लिया है। ऐसे में सोशल मीडिया पर उन्हें लेकर काफी बातें हो रही हैं। ऐसे में सोचा क्यों न उनके करियर के बारे में कुछ बातें हम भी बता दें। 

अब मामला यह है कि इस फिल्म में 'बेगम' का किरदार निभाने वाली 87 साल की अभिनेत्री फारुख ज़फर ने अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत साल 1981 में आई फिल्म 'उमराव जान' से की थी। इस फिल्म में वो रेखा के किरदार 'अमीरन' उर्फ 'उमराव जान' की मां की भूमिका में नज़र आई थीं। 

हालांकि फिल्मों में आने से पहले फारुख ज़फर ने लखनऊ के विविध भारती रेडियो स्टेशन में बतौर अनाउंसर काम कर चुकी थीं। उन्हें भारत की पहली महिला रेडियो अनाउंसर कहा जाता है। फारुख ज़फर के पति एक स्वतंत्रता सेनानी और पत्रकार थे। बाद में उन्होंने राजनीति के क्षेत्र में आए। फारुख ज़फर की दो बेटियां मेहरू और शाहीन हैं। मेहरू जफर एक लेखिका हैं।

बॉलीवुड के खान और फारुख ज़फर

फारुख ज़फर ने तो बॉलीवुड के तीनों खानों के साथ काम किया है। आमिर खान की फिल्म 'पीपली लाइव' और 'सीक्रेट सुपरस्टार' में फारुख नज़र आ चुकी हैं, तो वहीं शाहरुख खान की फिल्म 'स्वदेश' में भी खास भूमिका में थीं। फिल्म में उन्होंने 'फातिमा बी' की भूमिका निभाई थी। यही नहीं सलमान खान की फिल्म 'सुल्तान' में भी फारुख ज़फर उनकी 'दादी' के किरदार में थीं।

नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी और सान्या मल्होत्रा अभिनीत फिल्म 'फोटोग्राफ' हो या फिर कंगना रनौत और आर माधवन की 'तनु वेड्स मनु' या फिर राधिका आप्टे, तनिष्ठा चटर्जी की 'पार्च्ड' सभी में फारुख ज़फर अपनी जबरदस्त मौजूदगी दर्ज़ करवा चुकी हैं। 

सिर्फ फिल्में ही नहीं फारुख ज़फर धारावाहिकों में भी नज़र आ चुकी हैं। फारुख 'हुस्न-ए-जाना', 'आधा गांव' और 'नीम का पेड़' में काम कर चुकी हैं।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां