स्नेहा वाघ को इस तरह से मिली थी 'ज्योति'



मराठी इंडस्ट्री में काम करने वाली स्नेहा वाघ को एक हिन्दी सीरियल में लीड भूमिका के लिए कॉल आता है। ऑडिशन के लिए पहुंचती हैं। एक सीन के 17 टेक देती हैं और नाउम्मीद वापस लौट आती है, उनको यकीन रहता है कि अब वो धारावाहिक इनको नहीं मिलेगा। लेकिन कुछ दिन बाद प्रोडक्शन हाउस कॉल आता है और उस भूमिका के लिए सिलेक्ट हो जाती हैं। उस धारावाहिक का नाम है, 'ज्योति'। 

Sneha Wagh on her first TV show 'Jyoti'
लोकप्रिय हिन्दी धारावाहिक 'ज्योति' एक ऐसी लड़की की कहानी है, जो अपने परिवार की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अपने सपनों की बलि दे देती है। अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए हर तरह की बाधाओं को पार करती चली जाती है। 

साल 2009 में टेलीकास्ट हुए इस धारावाहिक ने दर्शकों का खूब प्यार पाया, तभी तो टीआरपी में इस धारावाहिक ने अपनी धाक जमाई। एक बार फिर से यह धारावाहिक दंल टीवी पर प्रसारित किया जा रहा है। 

इस धारावाहिक में मुख्य भूमिका निभाने वाली स्नेहा वाघ ने धारावाहिक से जुड़ने का दिलचस्प वाकया साझा किया। बता दें इस हिन्दी सीरियल से पहले स्नेहा ने अपना एक्टिंग करियर मराठी मनोरंजन जगत से शुरू कर लिया था। 

इसी दौरान 'ज्योति' के क्रिएटिव प्रोड्यूसर की नज़र स्नेहा पर पड़ी। दरअसल, क्रिएटिव प्रोड्यूसर चैनल चेंज करते समय एक मराठी शो पर आकर रुक गए और उसी में स्नेहा अहम भूमिका में दिखाई दीं। उधर धारावाहिक 'ज्योति' के लिए एक्ट्रेस की तलाश तकरीबन छह महीने से चल रही थी, लेकिन स्नेहा को देखते ही उस क्रिएटिव प्रोड्यूसर को लगा कि उनकी खोज खत्म हुई और उन्होंने स्नेहा को फोन कर ऑडिशन के लिए बुलाया। 

अपने ऑडिशन को याद करते हुए स्नेहा कहती हैं, 'जब 'ज्योति' के क्रिएटिव प्रोड्यूसर की नज़र मुझ पर पड़ी, उस वक्त मैं मराठी इंडस्ट्री का हिस्सा हुआ करती थी। 'ज्योति' की भूमिका के लिए उपयुक्त कलाकार की तलाश छह महीने से कर रहे थे, फिर उन लोगों ने मुझे नोटिस किया। तुरंत मुझे ऑडिशन के लिए बुलाया गया। रात के ग्यारह बज गए और मैं ऑडिशन के लिए 17वां टेक दे रही थी। मुझे लग रहा था कि मैंने जितने भी शॉट्स दिए हैं, उनमें से कोई भी अच्छा नहीं था। मैंने उस किरदार के लिए उम्मीदें छोड़ दी थीं, लेकिन जब प्रोडक्शन हाउस से मुझे कॉल आया, तो मैं सरप्राइज हो गई। सात दिन के भीतर ही मैं उस भूमिका के लिए चुनी जा चुकी थी और कॉन्ट्रेक्ट साइन हो रहे थे। कुल मिलाकर इस धारावाहिक का अनुभव काफी अच्छा रहा।'

वो आगे कहती हैं कि इस धारावाहिक के दस सालों के बाद के भी इस शो की टीम का व्हाट्सऐप ग्रुप है। सभी के सभी एक-दूसरे से कनेक्टेड हैं।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां