जब 'रामायण' के 'हनुमान' धरती पर गिरने से बाल-बाल बचे

आनंद सागर के 'रामायण' में 'हनुमान' बने विक्रम मस्तल ने बताया कि एक सीन को शूट करते समय वो धरती पर गिरते-गिरते बच गए थे। तकरीबन बीस किलो वजन के साथ विक्रम हार्नेस से बंधे होते थे, और इसी बीच हार्नेस का केबल वायल टूटा, तभी आठ दस क्रू मेंबर्स ने उनको झट से आकर थाम लिया। वर्ना विक्रम सीधे ज़मीन से टकरा जाते। 

vikram mastal aka hanuman in ramayan
आनंद सागर की 'रामायण' को एक बार फिर से दंगल चैनल पर दिखाया जा रहा है, जिसमें 'हनुमान' की भूमिका विक्रम मस्तल निभा रहे हैं। इस किरदार को निभाते वक्त विक्रम को काफी जोखिम उठाना पड़ा। 

ऐसे ही एक सीन को करते समय विक्रम दुर्घटना का शिकार होने से बाल-बाल बचे थे। इस बारे में वो कहते हैं,'हनुमान की भूमिका निभाना किसी चुनौती से कम नहीं था। चूंकि मेरे अधिकांश दृश्यों में एरियल थे। इसलिए मुझे हमेशा केबल के साथ हार्नेस पर बांधा जाता था। हमारी शूटिंग लंबे समय तक चलती थी। इसलिए मैं हमेशा घंटों तक लटका रहता था। अपने आप को संतुलित करने के अलावा, मुझे अपने मुकुट (हेड गियर) को भी संभालना होता था, जो लगभग 8 किलोग्राम का था और 12 किलो के गदे को भी संभालना था। इसी तरह एक सीन को करने के दौरान, जब मैं जमीन से लगभग 30 फीट ऊपर लटका हुआ था। तभी एक दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना हुई। हार्नेस के केबल तार वजन को संभाल नहीं पाए,और टूट गए। सौभाग्य से लगभग 8-10 क्रू मेंबर्स ने मुझे फुर्ती से आकर पकड़ लिया, और मुझे जमीन से टकराने से बचाया।'


इस तरह बने थे विक्रम मस्तल 'हनुमान'

विक्रम ने बताया,'मैं आनंद सागर के ऑफिस गया था, जहां पर 'रामायण' के ऑडिशंस चल रहे थे। मैंने सोचा 'मेघनाद' के किरदार का ऑडिशन दे दूं। वहां पर कास्टिंग डायरेक्टर ने कहा कोई भी स्क्रिप्ट लेकर ऑडिशन दे दो और जो स्क्रिप्ट पढ़कर मैंने डायलॉग बोले वो 'हनुमान' के थे। चैनल और प्रोडक्शन टीम को मेरा ऑडिशन इतना पसंद आया कि उन्होंने मुझे 'हनुमान' का रोल ऑफर कर दिया, लेकिन मुझे अपने दुबले शरीर को लेकर यकीन नहीं था कि मैं 'हनुमान' की भूमिका कर पाऊंगा।'

वो आगे बताते हैं, 'मुझे बताया गया कि मेरा ट्रैक 6 महीने बाद आएगा। तब तक मुझे अपनी बॉडी बनानी चाहिए। चूंकि उस वक्त मैं इंडस्ट्री मैं नया था। ना तो मेरे पास जिम जाने या सप्लीमेंट्स खरीदने के लिए पैसे भी नहीं थे। उस वक्त आनंद जी ने खुद मुझे बीस हज़ार रुपए हर महीने कसरत और सप्लीमेंट्स खरीदने के लिए दिए।'

उन्होंने आगे कहा, 'आनंद जी ने यह तय किया कि मैं 6 महीने में 'हनुमान' जैसा दिखने लगूं। उनका प्रोत्साहन और अपने काम के लिए उनकी लगन ने मुझे भी बॉडी बनाने के लिए प्रेरित किया और 'हनुमान' का किरदार करने के लिए मेरा वजन 76 किलो से 101 किलो हो गया।'

'रामायण- कथा वचनों और आदर्शों की' हर शाम 7.30 बजे और अगले दिन सुबह 9 .30 बजे दंगल टीवी पर प्रसारित की जा रही है। यह 'रामायण', रामानंद सागर की 'रामायण' का रीमेक है, जिसमें गुरमीत चौधरी ने 'राम' और देबिना बनर्जी ने 'सीता' के किरदार निभाये थे। इसका पहला प्रसारण साल 2008 में हुआ था।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां