'द्वारकाधीश' के 'कृष्ण' हैं ट्रेंड पायलट, ट्रेवलिंग-बाइक के शौक ने बनाया एक्टर



विशाल करवाल, इंजीनियरिंग की डिग्री लेकर ट्रेंड पायलट बने, फिर रियलिटी शो से होते हुए डेली सोप करने लगे, फिर मैथोलॉजी सीरियल्स के भगवान बने और फिर फिल्मों भूत के किरदार में नज़र आए। एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में अपनी जर्नी को विशाल रोलर कोस्टर राइड कहते हैं। अपने इस सफर पर उन्होंने अपने विचार रखे। 

actor vishal karwal who play 'krishn' in 'dwarakadhees'
पायलट से रियलिटी शो, रियलिटी शो के बाद डेली सोप, फिर टीवी के भगवान से फिल्मों के भूत...यह विशाल करवाल के करियर की अब तक की जर्नी है। विशाल ने अभी तक अलग-अलग जॉनर में अलहदा किरदारों को निभाकर दर्शकों को एंटरटेन कर अपनी वर्सैलिटी साबित कर चुके हैं। 

दिलचस्प बात यह है कि विशाल ने कभी भी एक्टिंग के फील्ड में अपना करियर बनाने के बारे में विचार नहीं किया था। विशाल ट्रेंड पायलट हैं और उनके पास इंजीनियरिंग की डिग्री है। साल 2008 में वो पायल ट्रेनिंग कोर्स करने के लिए टेक्सास, अमेरिक गए थे। 

टेक्सास जाने से पहले अपने विशाल को एक रियलिटी टीवी शो का हिस्सा बनने का मौका मिला और वह शो था, एमटीवी का 'रोडीज़'। 'रोडीज़ 4' में इन्होंने हिस्सा लिया। हालांकि, इस रियलिटी शो के विजेता नहीं बन पाए, लेकिन इसी चैनल के दूसरे शो 'स्पिल्ट्जविला' के पहले सीज़न के विशाल विजेता बने। 

एयरकार्फ्ट उड़ाते-उड़ाते कैमरे के सामने डायलॉग बोलने तक के अपने सफर के बारे में विशाल कहते हैं, 'मेरे इंजीनियरिंग डेज के दौरान मैंने कुछ रियलिटी शोज़ में हिस्सा लिया। दरअसल, ट्रेवलिंग और बाइक्स के अपने शौक के कारण मैंने यह फैसला लिया था। कुछ रियलिटी शोज़ को करने के बाद मुझे डेली सोप का ऑफर मिला, तो मैंने सोचा एक बार कर के देखते हैं।'

कैमरे के सामने अपने पहले अनुभव के बारे में बात करते हुए विशाल कहते हैं, 'कैमरे के सामने मैं काफी नर्वस था। मैंने ऐसा पहले कभी नहीं किया था। मेरी परफॉर्मेंस को बेहतरीन करने में मेरे को-स्टार ने मेरी काफी मदद की। वहीं जब मेरा शॉट हो जाता था, तो मैं आकर मॉनिटर के पीछे बैठ जाता था, ताकि मैं दूसरों की परफॉर्मेंस देख सकूं और फिर मैं एक्टिंग की बारीकियां सीख सकूं।'

वैसे, तो विशाल ने टेलीविज़न पर कई किरदार निभाए हैं, लेकिन पौराणिक धारावाहिक 'द्वारकाधीश' में निभाए गए 'कृष्ण' की भूमिका ने उनके ऊपर गहरा प्रभाव छोड़ा है। 

इस बारे में बात करते हुए विशाल कहते हैं, 'पौराणिक चरित्र डेली सोप के दूसरे किरदारों की अपेक्षा अधिक चुनौतीपूर्ण होते हैं। उन किरदारों के लुक से लेकर बिहेवियर और कॉस्ट्यूम तक को लेकर दर्शकों के मन में पहले से ही एक छवि बनी हुई है। मैंने इस चुनौती को स्वीकारा और अपनी परफॉर्मेंस को सौ फीसदी देने की पूरी कोशिश की। इस किरदार ने एक अभिनेता के रूप में मुझे काफी कुछ सिखाया है। यह किरदार मेरे दिल के काफी करीब है और भाग्यशाली हूं कि इस किरदार को निभाने का मुझे मौका मिला।'

टेलीविज़न धारावाहिकों में अपने हुनर दिखाने के बाद विशाल को फिल्मों में भी एक अलग तरह के किरदार को निभाने की चुनौती मिली। विशाल को मिली चुनौतियों ने उनको बेहतरीन अभिनेता बनाने में अहम भूमिका निभाई है। 

अपने बॉलीवुड डेब्यू को लेकर विशाल कहते हैं, 'यह मेरे लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहा। मुझे नहीं पता कि किसी व्यक्ति पर जब भूत चढ़ता है, तो उसका व्यवहार कैसा होता है। हालांकि, आपको मिले मौके को अपना सौ फीसदी देना ही होता है। कभी-कभी यह काम करता है, तो कभी नहीं भी करता है, लेकिन मुझे लगता है कि मेरे मामले में इसने बेहतरीन तरीके से काम किया, क्योंकि दर्शकों ने इसे पसंद किया। मेरे फैन्स मुझसे 'द्वारकाधीश' के समय से जुड़े हुए हैं। उसके बाद मैं जो भी कुछ करता हूं, वो मुझे खुले दिल से अपनाते हैं।' 

अपनी अब तक की जर्नी को रोलकोस्टर राइड करार देते हुए कहते हैं कि उम्मीद है कि मैं इस उड़ान में ऊपर और ऊपर जाऊंगा। 

फिलहाल विशाल दंगल टीवी पर प्रसारित हो रहे धारावाहिक 'द्वारकाधीश-भगवान श्रीकृष्ण' में नज़र आ रहे हैं।

टिप्पणियां