कार्तिक आर्यन ने 'डिप्रेशन' के लिए खोजा नया शब्द, 'कोकी पूछेगा' में दी जानकारी



कार्तिक आर्यन के चैट शो 'कोकी पूछेगा' का सातवां एपिसोड रिलीज़ हो चुका है। इस बार कार्तिक ने मेंटल हेल्थ के इश्यू पर अमेरिका में स्थित जॉन हॉपकिंस अस्पताल की मनोचिकित्सक डॉ. गीता जयराम से बात की। यह एपिसोड भी अन्य की तरह इंफोर्टेनमेंट से भरपूर रहा, यानी इंफोर्मेशन के साथ एंटरटेनिंग भी रहा। सोशल मीडिया पर इस एपिसोड की काफी चर्चा हो रही है। 

kartik aaryan with dr geetha jayram
कहा जाता है न कि 'इंतज़ार का फल मीठी होता है'...ठीक इसी तरह कार्तिक आर्यन के चैट शो 'कोकी पूछेगा' के अगले एपिसोड के बारे में कहा जा सकता है।

कोरोना काल में अवेयरनेस फैलाने के नियत से कार्तिक आर्यन ने कोरोना वॉरियर्स से बातचीत का सिलसिला शुरू किया था। कार्तिक के यूट्यूब चैनल 'बेबी स्टेप' के अंतर्गत 'कोकी पूछेगा' नाम से सीरीज़ शुरू की थी। 

इस चैट शो सीरीज में कार्तिक कोरोना वॉरियर्स से लगातार बात कर रहे थे, जिसमें कोरोना से जंग जीत कर लौटे पेंशेट से लेकर, सुरक्षाकर्मी, सफाई कर्मा, समाज सेवी और पत्रकार सभी शामिल थे। हालांकि, छह एपिसोड के बाद सांतवें का काफी इंतज़ार करना पड़ा, लेकिन कार्तिक की इस सीरीज़ का सांतवा एपिसोड धमाकेदार रहा। 

कार्तिक ने सांतवें एपिसोड में 'मेंटल हेल्थ' के इश्यू को कवर किया। 'मेंटल हेल्थ' या मानसिक स्वास्थ्य वह मुद्दा है, जिसे लोग आसानी से अनदेखा कर देते हैं। हालांकि, यह काफी गंभीर समस्या है। 

अब ऐसे में इस समस्या पर चर्चा करने के लिए कार्तिक ने अपने शो 'कोकी पूछेगा' में अमेरिका में स्थित अस्पताल जॉन हॉपकिंस की मनोचिकित्सक डॉ. गीता जयराम को आमंत्रित किया। 

इस इंटरव्यू की एक छोटी सी झलक देते हुए कार्तिक ने कहा था,'सबसे महत्वपूर्ण एपिसोड। देखो और बाताओ !! एपिसोड 7 आउट नाउ ...और यह वास्तव में एक महत्वपूर्ण एपिसोड है।'

अमेरिका के बाल्टीमोर में स्थित जॉन हॉपकिंस अस्पताल की मनोचिकित्सक डॉ. गीता जयराम से बातचीत की शुरुआत में कार्तिक कहते हैं कि अवेयरनेस में कुछ बुरा है क्या। 

इसके बाद वो मेंटल हेल्थ को लेकर संक्षिप्त जानकारी देते हैं। इसके बाद डॉ गीता जयराम का परिचय ऑडियंस से करवाते हैं और बताते हैं कि वे डी शब्द ( डिप्रेशन शब्द का हवाला देते हुए) का उपयोग न करें, बल्कि इसे 'देवदास' कहें। 

इसके बाद शुरू होता है रोचक और ज्ञानवर्धक बातचीत का सिलसिला। यह एपिसोड 'मस्ट वॉच' कहा जाना चाहिए, खासतौर पर यंगस्टर्स के लिए। 

जहां अन्य बीमारियों को लेकर लोग आसानी से बात कर लेते हैं, लेकिन मानसिक बीमारियों को लेकर कोई चर्चा नहीं करता। इसस बीमारी से ग्रसित व्यक्ति अपने दर्द को साझा भी नहीं करता। 

कार्तिक इस एपिसोड में डॉ. गीता जयराम कई ऐसे सवाल पूछते हैं, जो आमतौर पर लोगों के दिमाग़ में चलता रहता है, जैसे डिप्रेशन में होने के वास्तविक संकेत क्या हैं? क्या शराब डिप्रेशन के लिए एक वास्तविक इलाज है ? यहां तक कि डिप्रेशन और आत्महत्या सह-संबंधित हैं ? 

इस एपिसोड के बाहर आने के बाद इसने इंटरनेट पर धूम मचा दी है। #KokiPoochega ने सोशल मीडिया पर ट्रेंड करना शुरू कर दिया, क्योंकि नेटिज़न्स ने नए एपिसोड के लिए अपने प्यार को साझा किया और युवा सुपरस्टार के कदम की सराहना की। यह एपिसोड वास्तव में इस सीरीज का इंटरनेट-ब्रेकिंग एपिसोड है।


टिप्पणियां