'प्यार की लुका छुपी' के 'सार्थक' की स्ट्रगल स्टोरी करेगी आपको मोटीवेट

दंगल टीवी के धारावाहिक 'प्यार की लुका छुपी' में 'सार्थक' की भूमिका निभाने वाले अभिनेता राहुल शर्मा ने दो साल तक कड़ा संघर्ष किया। यहां तक कि एक दिन में वो 6-7 ऑडिशन दिया करते थे। पहला ब्रेक मिलने के बाद वर्कशॉप के दौरान उनको प्रोजेक्ट से बाहर कर दिया गया था। इस बारे में राहुल का कहना है कि मैंने हार नहीं मानी, बल्कि अपनी एक्टिंग स्किल्स पर काम किया और आखिर में कामयाबी मिल ही गई। 

Dangal Tv Show 'Pyaar Ki Luka Chuppi'actor Rahul Sharma
एक्टिंग की दुनिया में खुद को स्थापित करना साहसी कदम है। इस मुकाम पर पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। कई अन्य कलाकारों की तरह ही 'प्यार की लुका छुपी' में 'सार्थक' का किरदार निभा रहे एक्टर राहुल शर्मा का भी एक स्ट्रगल पीरियड रहा है। 

अपने इस सफर को लेकर राहुल कहते हैं, 'मैं दो साल से संघर्ष कर रहा था और लगभग 500-600 ऑडिशन दिए, जिसके बाद आखिरकार मैं अपने पहले शो के निर्देशक से मिला। उन्होंने मुझे आश्वासन दिया कि वह मुझे धारावाहिक में कास्ट करेंगे। मुझे काम दिलाने से पहले एक कार्यशाला में भाग लेने के लिए बताया गया था। कार्यशाला में 10 मिनट बाद, सेशन कंटक्ट करने वाले शख्स ने डायरेक्ट को कहा कि मैं भूमिका करने में सक्षम नहीं हूं और इसलिए उन्हें मुझे लेने पर विचार नहीं करना चाहिए और फिर मुझे छोड़ने के लिए कहा गया। उस घटना के बाद मेरे सामने दो विकल्प थे,या तो मैं सब छोड़ कर घर वापस जा सकता था या दूसरे प्रोजेक्ट्स की तलाश जारी रख सकता था, लेकिन मैंने खुद पर मेहनत करने का फैसला किया। मैंने 2-3 ऑडिशन की तुलना में एक दिन में 7-8 ऑडिशन देना शुरू किया। मैंने अपने एक्टिंग स्किल्स पर काम करने का फैसला कर लिया। मैं चाहता था कि निर्देशक और निर्माता यह महसूस करें कि मैं अभिनय करने में सक्षम हूं। मैंने अपने इस मकसद के साथ फिर से काम करना शुरू कर दिया। एक महीने के बाद, मुझे उसी निर्देशक से दोबारा कॉल आया, जिसमें मुझे वही भूमिका करने के लिए कहा गया था जिसके लिए मुझे अस्वीकार कर दिया गया था।'

राहुल ने आखिरकार ऐसा कुछ किया, जिससे उन्होंने अपना पसीना और आंसू बहाए। उनका मानना ​​है कि मेहनत और समर्पण से सब कुछ हासिल किया जा सकता है। 

दिग्गज अभिनेता देव आनंद से वो व्यक्तिगत रूप से मिले और देव आनंद ने उनसे कहा, ' यंग मैन, आप अच्छा करेंगे। चिंता मत करो, तुम्हारा जीवन अच्छा होगा।'

देव आनंद सरीखे दिग्गज कलाकार के द्वारा खुद के लिए यह शब्द सुनकर उनका मनोबल और बढ़ गया।

टिप्पणियां