निर्देशक निशिकांत कामत का निधन

निर्देशक-अभिनेता निशिकांत कामत का 50 वर्ष की आयु में निधन हो गया। वो लीवर सिरोसिस नामक बीमारी से ग्रसित थे। लंबे समय से वह हैदराबाद के एक निजी अस्पताल में भर्ती थे। बतौर निर्देशक निशिकांत कामत ने 'दृश्यम', 'मदारी', 'फोर्स' सरीखी हिन्दी फिल्में बनाईं, तो वहीं उन्होंने अपने करियर की शुरुआत मराठी फिल्म 'डोंबिवली फास्ट' से की थी। फिल्म 'रॉकी हैंडसम' में वो नेगेटिव कैरेक्टर में दिखे। 

Nishiaknt Kamat passes away
लंबे समय से अस्पताल में भर्ती निर्देशक-अभिनेता निशिकांत कामत का निधन हो गया है। लीवर सिरोसिस नामक बीमारी से ग्रसित थे और इसी के इलाज के लिए वो अस्पताल में एडमिट थे। कुछ दिनों पहले ही ख़बर आई थी कि उनकी हालत गंभीर है और वो आईसीयू में भर्ती थे।

अस्पताल की तरफ से जारी बयान में कहा गया था, 'मिस्टर निशिकांत कामत (50 वर्ष, पुरुष) को 31 जुलाई को पीलिया और पेट में दर्द की शिकायत के चलते हैदराबाद में गचीबोवली स्थित एआईजी में भर्ती कराया गया था, जहां उनमें क्रॉनिक लिवर डिजीज और अन्य संक्रमणों का पता चला।'

निशिकांत कामत ने अजय देवगन और तब्बू अभिनीत 'दृश्यम', इरफान खान स्टारर 'मदारी' और जॉन अब्राहम की 'फोर्स' की निर्देशन किया है।

मनोरंजन जगत से जुड़े लोगों ने श्रद्धांजलि दी।






निशिकांत कामत का करियर 

मुंबई में 17 जून 1970 में जन्में निशिकांत कामत ने बतौर निर्देशक अपने करियर की शुरुआत साल 2005 में मराठी फिल्म 'डोंबिवली फास्ट' से की थी। निशिकांत की डायरेक्टोरियल डेब्यू फिल्म को मराठी बेस्ट फीचर फिल्म का नेशनल अवॉर्ड भी मिला था। यह फिल्म उस साल की सबसे बड़ी हिट मराठी फिल्मों में से एक थी। वहीं बॉलीवुड में कामत को साल 2015 में आई अजय देवगन, तब्बू और श्रेया सरन स्टारर फिल्म 'दृश्यम' से पहचान मिली।

निशिकांत कामत निर्देशक के साथ बेहतरीन एक्टर भी रहे हैं। उन्होंने 'हाथ आने दे', 'सतच्या आत घरात' (मराठी), '404 एरर नॉट फाउंड', 'रॉकी हैंडसम', 'फुगे', 'डैडी', 'जूली-2', 'भावेश जोशी' जैसी कई मराठी और हिंदी फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखाया। साल 2016 में आई फिल्म 'रॉकी हैंडसम' में उन्होंने विलेन का किरदार निभाया, उन्होंने इस फिल्म को डायरेक्ट भी किया था। 

फिलहाल अपनी अगली फिल्म 'दर-ब-दर' के निर्देशन की तैयारियों में जुटे थे, जो साल 2022 में रिलीज होनी थी। 

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां