महारानी गायत्री देवी पर बनेगी वेब सीरीज

दुनिया सबसे खूबसूरत महिलाओं में शुमार होने वाली महारानी गायत्री देवी के जीवन पर भी जल्द ही एक वेब सीरीज बनने जा रही है। जानकारी के मुताबिक गायत्री देवी के वारिसों ने उन पर वेब सीरीज बनाने के लिए मुंबई की एक प्रोडक्शन कंपनी को राइट्स बेच दिए हैं। गायत्री देवी भारत की मशहूर हस्तियों में शामिल हैं। कहा जाता था कि वे ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ और अमेरिका के राष्ट्रपति को सीधे फोन मिला दिया करती थीं।

Web-series-in-making-on-life-of-maharani-gayatri-devi

जयपुर की मशहूर महारानी गायत्री देवी के जीवन पर भी जल्दी ही एक वेब सीरीज बनने जा रही है। इस सीरीज की कहानी 'राजी' फेम राइटर भवानी अय्यर लिखेंगी। वहीं इस सीरीज के लिए गीत कौशर मुनीर लिखने वाली हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गायत्री देवी के वारिसों ने उन पर वेब सीरीज बनाने के लिए मुंबई की एक प्रोडक्शन कंपनी को राइट्स बेच दिए हैं।

गायत्री देवी की भूमिका में किसे कास्ट किया जाएगा, इसे लेकर अभी चर्चा जारी है। महारानी गायत्री देवी भारत की मशहूर हस्तियों में शामिल हैं। उनके बारे में कहा जाता था कि वो ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ और अमेरिका के राष्ट्रपति को भी सीधे फोन मिला दिया करती थीं।

अपनी दादी पर बनने जा रही वेब सीरीज के बारे में देवराज और लालित्य कहते हैं, 'एक प्रेरणादायी जीवनी को एक ड्रामा सीरीज में तब्दील होते देखना काफी रोमांचक है।'

दोनों ने उम्मीद जताई कि यह सीरीज लाखों लोगों खासतौर से युवाओं को प्रेरित करने में सफल रहेगी। साथ ही दुनिया को एक ऐसी पर्सनॉलिटी के अनजान पहलुओं के बारे में बताएगी।

अभी तक मिली जानकारी के अनुसार इस सीरीज की शूटिंग के लिए गायत्री देवी के निजी उपयोग की वस्तुएं भी प्रयोग में लाई जाएंगी। राजस्थान की वास्तविक लोकेशन्स पर शूट होने जा रही इस फिल्म में राजपूताना वैभव और उसकी आन बान शान की झांकी भी पेश की जाएगी।

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिलाओं में शामिल रहीं जयपुर की महारानी गायत्री देवी अपनी जिंदगी और जीने के खास अंदाज के लिए मशहूर रहीं। उनका जन्म 23 मई 1919 को लंदन में हुआ था। कूच बिहार की इस राजकुमारी को वोग मैगजीन ने उन्हें दुनिया की 10 सबसे सुंदर महिलाओं में से एक माना था।

गायत्री देवी, जयपुर के महाराजा मानसिंह की तीसरी पत्नी थीं। गायत्री देवी की मृत्यु 29 जुलाई, 2009 को हुई थी। उन्हें जयपुर की राजमाता के नाम से भी जाना जाता है। गायत्री देवी के बेटे जगत सिंह ने थाईलैंड की राजकुमारी प्रियनंदना रंगसित से शादी की थी, लेकिन दोनों के रिश्तों में खटास आने के चलते दोनों अलग हो गए और राजकुमारी प्रियनंदना अपने बेटे देवराज और बेटी लालित्या को लेकर थाईलैंड लौट गईं।

राजनैतिक विचार की बात करें, तो गायत्री देवी कांग्रेस पार्टी की वह कट्टर आलोचक रहीं और यहां तक कि प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री से कांग्रेस में शामिल होने के मिले निमंत्रण को भी उन्होंने ठुकरा दिया था।

तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने साल 1975 में जब आपातकाल की घोषणा की थी, तब कई पत्रकारों, विरोधी नेताओं, कलाकारों के साथ गायत्री देवी को भी छह महीने के लिए कैद किया गया था। गायत्री देवी को आयकर विभाग के अफसरों ने अघोषित सोना और संपत्ति छुपाने के आरोप में विदेशी एक्सचेंज और तस्करी से जुड़े एक एक्ट (COFEPOSA) के तहत उन्हें गिरफ्तार किया गया और उन्हें तिहाड़ जेल में रखा गया था। जेल में साथी कैदियों और उनके बच्चों को पढ़ाने वाली गायत्री देवी की सेहत जेल में लगातार बिगड़ती गई। करीब छह महीने जेल में रखने के बाद उन्हें पैरोल पर रिहा किया गया, लेकिन उन पर पाबंदियां जारी रहीं। जेल से छूटने पर गायत्री देवी एक छोटा जश्न मनाना चाहती थीं, लेकिन उनके करीबी बीजू पटनायक भी जेल में थे, इसलिए जश्न नहीं हुआ।

जब साल 1980 में संजय गांधी की प्लेन दुर्घटना में मौत हुई, तब संजय के निधन पर शोक जताने के लिए गायत्री देवी ने इंदिरा गांधी को फोन भी किया था, लेकिन इंदिरा ने बात करने से मना कर दिया था।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां