Manny: मियामी इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में 'मैनी' ने जीते 4 अवॉर्ड्स

फिल्म 'मैनी' पहली ऐसी भारतीय साइंस फिक्शन फिल्म बनी, जिसने मियामी इंटरनेशनल साई-फाई फिल्म फेस्टिवल में चार अवॉर्ड्स अपने नाम किए। डेस पक के निर्देशन में बनी फिल्म को सोनल सहगल ने प्रोड्यूस किया है। यही नहीं फिल्म को न सिर्फ सबसे ज्यादा अवॉर्ड हासिल हुए हैं, बल्कि सबसे ज्यादा नॉमिनेशन भी इसे मिले हैं। अलग-अलग देशों की 120 फिल्मों के बीच इस फिल्म ने अपना डंका बजाया है।

indian-sci-fi-film-manny-wins-4-big-awards-in-miami-international-film-festival

फिल्म 'मैनी' पहली ऐसी भारतीय साइंस फिक्शन फिल्म बनी है, जिसने मियामी इंटरनेशनल साई-फाई फिल्म फेस्टिवल के दौरान अपना डंका बजाया है। फिल्म 'मैनी' ने चार बड़े अवॉर्ड अपने नाम किए। फिल्म का निर्देशन डेस पक ने किया है। वहीं इस फिल्म को सोनल सहगल ने न सिर्फ लिखा है, बल्कि इसे प्रोड्यूस भी किया है।

वहीं, डायरेक्टर ट्रॉय के मुताबिक इस फिल्म ने सबसे ज्यादा अवॉर्ड हासिल करने के साथ ही सबसे ज्यादा नॉमिनेट भी हुई है। बताया जा रहा है कि अलग-अलग देशों की 120 फिल्मों के बीच इस फिल्म को चुना गया था।

फिल्म 'मैनी' को सर्वश्रेष्ठ साई-फाई पिक्चर रनर अप का अवार्ड मिला। इसके अलावा फिल्म को सर्वश्रेष्ठ छायाचित्रण का पुरस्कार भी मिला। साथ ही बेस्ट बैकग्राउंड स्कोर का अवार्ड नरेश कामथ और बेस्ट सहनायक का अवार्ड एक्टर टोनी हॉकिंन्स जीता।

बेस्ट बैकग्राउंड स्कोर के लिए इंटरनेशनल अवार्ड जीतने वाले कंपोजर और सिंगर नरेश कामथ इस जीत को लेकर काफी खुश हैं। उन्होंने फिल्म के दो ऑरिजनल साउंड ट्रैक कंपोज भी किये हैं। इसके साथ ही उन्हें गाया भी है।

इस पर बात करते हुए उन्होंने कहा, 'इस महामारी ने हमें काम को एक नए ढंग से करने की सीख दी। इस पूरी यात्रा में मैं और डायरेक्टर डेविड, ऑनलाइन ही बात कर पाते थे। मैंने इसके पहले भी फिल्मों में बैकग्राउंड स्कोर दिया था, लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है, जब स्टूडियो में बिना डायरेक्टर की मौजूदगी से इतना बड़ा काम हुआ और जो काम भी कर गया।'

वहीं फिल्म 'मैनी' के बारे में बात करते हुए राइटर और प्रोड्यूसर सोनल कहती हैं, 'समय की अनियमित्ता और समय का आंकलन ठीक से न हो पाने के कारण मैंने इतना बड़ा पल खो दिया। मुझे लगा कि ये दिन होगा बाद में और फिर मैं जब सोकर उठी तब डायरेक्टर ट्रॉय बर्नर ने बताया कि हमे ढेर सारे अवार्ड मिले हैं। ऐसे में ये सब एक सपने जैसा था।'

बता दें कि फिल्म 'मैनी' एक ऐसे भारतीय महिला के सफर की कहानी हैं, जो लटविया जाती है। वह एक लेखक के तौर पर आत्मकथा लिखने के लिए सफर पर निकलती है और अपनी अपने अस्तित्व की तलाश में, समलैगिंकता से जूझ रही है। इस महिला की जिंदगी में कई मोड़ आते हैं। जब तीन प्यार की राहों में वो आकर फंसती है। एक असल में, दूसरा जो उसकी कल्पना में हैं और तीसरा जो उसके साथ हैं यानी की आदमी, औरत और वो खुद।

फिल्म की कहानी आपको बांधे रखती हैं। एक घर में जहां इसे कैद कर लिया जाता है, जहां वो बहुत ही बहादुरी से अपनी खुद की सच्चाई का सामना करती है और उस कैद से भागकर निकलने में कामयाब होती है।

फिल्म 'मैनी' कई फिल्म फेस्टिवल में जा चुकी है और सफलतापूर्वक दिखाई जा चुकी है। इसे सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म के लिए 'यूरोपियन सिनेमाटोग्राफी' का अवार्ड भी मिल चुका है।

संबंधित खबरें

टिप्पणियां