सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

'जंगल जंगल बात चली है' आपको पता चला ?

नब्बे के दशक के मशहूर धारावाहिक 'जंगल बुक' का टाइटल ट्रेक "जंगल जंगल बात चली है, पता चला है। चड्ढी पहन के फूल खिला है", तो सबके ज़ेहन में ताज़ा होगा। लेकिन अब इस गीत में थोड़े से बदलाव के साथ 'द जंगल बुक' के हिंदी वर्जन के लिए गीतकार गुलज़ार और संगीतकार विशाल भारद्वाज ने नया ट्रेक फिर से बनाया है। सुनकर खो न जाना।

8 अप्रैल को "द जंगल बुक" हिन्दी में रिलीज़ होने जा रही है। इसी तैयारी में 21 मार्च को UTV Motion Picture ने "द जंगल बुक" के टाइटल सॉन्ग का नया वर्शन लॉन्च किया है। जिसे आप यू ट्यूब पर देख सकते हैं।
मुंबई। रुडयार्ड किपलिंग की लिखी किताब पर आधारित हॉलीवुड फिल्म 'द जंगल बुक' हिंदी में 8 अप्रैल को भारत में र‍िलीज़ होने वाली है। यह यूएस में रिलीज होने से पहले भारत में रिलीज की जाएगी। इसे लेकर UTV Motion Picture बड़ी जोर शोर से तैयारी करने में जुट गया है। इसी तारतम्य में 21 मार्च को इसका टाइटल सॉन्ग रिलीज़ किया गया है। इससे पहले इसका ट्रेलर 21 को लॉन्च किया गया था। आप भी टाइटल ट्रेक को यू ट्यूब पर देख सकते हैं।

जंगल जंगल बात में खास 

इस वीडियो में सभी नन्हे्ं गायक कलाकार मस्ती में गाते हुए द‍िख रहे हैं। गीत के बोल में कुछ नयापन गुलज़ार से डाला है और संगीत में विशाल ने कुछ नए वाद्ययंत्रों का इस्तेमाल क‍िया है। इस नए गाने को सुनकर आप भी अपने बच्चों के संग बचपन में गुम हो जाएंगे।

विशाल और गुलज़ार 

विशाल भारद्वाज के बनाए इस गीत को फिल्म के साथ भी रिलीज़ करने की तैयारी की जा रही है। विशाल ने कहा कि 'जंगल जंगल बात चली है, पता चला है' मेरा पहला सफल सॉन्ग ही नहीं था, बल्कि यह पहला मौक़ा था जब मैंने गुलजार साहब के साथ काम किया था। जब हम यह सॉन्ग तैयार कर रहे थे, तो हमने इसके लिए बहुत सारा समय दिया था।

इस गाने के सफल होने पर अपने अंदेशा के बारे में बताते हैं कि जब हम इस गाने को बना रहे थे, तब इस बात का अंदाजा नहीं था कि हम क्या कर रहे हैं। हमने सोचा भी नहीं था कि यह इतना पॉपुलर हो जाएगा।

इतने सालों के बाद एक बार फिर से इस प्रोजेक्ट पर काम करने के बारे में कहते हैं, ' 23 साल के बाद इस गाने पर फिर से बात होना बहुत ही अच्छा अनुभव है। गुलजार साहब के गीत यादगार हैं। वो जब कभी भी बच्चों के लिए लिखते हैं तो कमाल लिखते हैं।'

गुलज़ार के बारे में विशाल ने कहा कि गुलजार साहब फिल्म इंडस्ट्री के सबसे पुराने बच्चे हैं। उन्हें उम्र से नहीं आंक सकते। उनके गीतों में बचपन की सादगी है। दुनिया के लिए कुछ नया भी है। जब ऐसे गीतकार के साथ काम करना हो तो फिर कंपोजर के लिए इससे अच्छा क्या हो सकता है।'


फिल्म और कहानी 

इस फिल्म को हिंदी में प्रियंका चोपड़ा, इरफान खान, नाना पाटेकर, ओम पूरी और अभिनेत्री शेफाली शाह ने डब किया है। इस कहानी का प्रमुख पात्र मोगली है और इस कहानी की पृष्ठभूमि कान्हा के जंगलों में है। इसी कहानी पर 1967 में द जंगल बुक, 1998 में द जंगल बुक : मोगली स्टोरी बन चुकी है।

इसके बाद साल 2003 में द जंगल बुक 2 और भी फिल्म बन चुकी है। जंगल बुक पर कई टीवी सीरीज भी बन चुकी हैं। लेकिन इसी टाइटल सांग "जंगल जंगल बात चली है पता चला" है आज तक सबसे ज्यादा हिट सीरीज रही है।

संबंधित खबरें।