सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रणदीप ने लिया 'उड़ता तीर'

बॉलीवुड अभिनेता रणदीप हुड्डा ने गुड़गांव का नाम गुरुग्राम करने के सरकार के फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि यह कदम हरियाणा की संस्कृति और इतिहास को झटका है। हुड्डा ने सरकार के फैसले को लेकर लगातार एक के बाद एक तीन ट्वीट किए।

रणदीप ने हरियाणा सरकार के फैसले की आलोचना की

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता रणदीप हुड्डा अपनी जड़ों से बहुत गहरे जुड़े हैं। जब भी हर‍ियाण की बात आती है, वो खुलकर अपने विचार रखते हैं। गुड़गांव का नाम गुरग्राम करने के सरकार के फैसले की भी उन्होंने जमकर आलोचना करते हुए कहा कि यह कदम हरियाणा की संस्कृति और इतिहास को झटका है.

गुड़गांव दिल्ली से सटा हरियाणा का कॉरपोरेट केंद्र है। यह फैसला बीजेपी सरकार ने किया है और उसने दावा किया है कि इलाके के लोग इस संबंध में मांग कर रहे थे।

'ग्राम नहीं, गांव या गाम हमारा शब्द'

हुड्डा ने ट्विटर पर हिंदी में लिखा है, 'गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम करना हरियाणा की संस्कृति, भाषा और इतिहास को झटका है। 'ग्राम' हमारा शब्द नहीं है। ऐसा क्यों हुआ है।'

39-वर्षीय अभिनेता ने कहा, 'मेरा मतलब है कि हरियाणावी में 'गांव' या 'गाम' शब्द है। वे इसे बदलकर गुरगांव कर सकते थे।' रणदीप ने भविष्‍य में उनका विरोध होने की आशंका जताते हुए मजा‍किया ट्वीट भी करते हुए, लिखा कि लगता है उड़ता हुआ तीर ले लिया।

मांग पर बदला नाम

वहीं हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने सोमवार को गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम करने का फैसला किया था। हरियाणा सरकार ने कहा कि स्थानीय लोगों की मांग पर ऐसा किया जा रहा है।

एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा, 'यह वो इलाका है जहां महाभारत काल में द्रोणाचार्य का आश्रम हुआ करता था। यह एक बड़ा अध्ययन केंद्र था, जहां राजकुमारों को शिक्षा दी जाती थी। स्थानीय लोग काफी लंबे समय से गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम किए जाने की मांग कर रहे थे।'

मेवात भी होगा नूंह

खट्टर सरकार ने मेवात का नाम भी बदलकर नूंह करने का निर्णय लिया है। राज्य सरकार ने इसके बारे में कहा कि मेवात एक भौगोलिक और सांस्कृतिक इकाई है, न कि एक शहर। मेवात जिले का मुख्यालय नूंह शहर है। इलाके के लोग और निर्वाचित प्रतिनिधि मेवात का नाम बदल कर नूंह करने की मांग कर रहे थे।

संबंधित ख़बरें
आगे 'सरबजीत' का ट्रेलर जारी