सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आसान नहीं शाहरुख होना

बॉलीवुड के बड़े सितारों में से एक शाहरुख खान की ज़‍िंदगी को हर कोई जीना चाहता है, लेकिन खुद शाहरुख अपनी ज़ि‍ंदगी को संघर्षमय बताते हैं। शाहरुख का कहना है कि वो अपने घर 'मन्नत' में सिर्फ चार घंटे बिताते हैं और बच्चों से रात 3 बजे ही मिल पाते हैं। स्टारडम के पीछे का दर्द शाहरुख़ ने आगामी फिल्म 'फैन' के सिलसिले में हुई प्रेसवार्ता में साझा किया

फिल्म 'फैन' में शाहरुख खान
मुंबई। अभिनेता शाहरुख खान, उन अभिनेताओं में से हैं, जिनके शोहरत भी है और पैसा भी है। अपनों के साथ करोड़ों प्रशंसकों की कतार भी है। इन सबकी ख्वाहिश अधिकतर लोगों को होती है, लेकिन शाहरुख अपनी इस ज़िदगी को उतना आसान नहीं मानते हैं। शाहरुख खान 15 अप्रैल को रिलीज़ हो रही फिल्म के लिए प्रमोशन में व्यस्त हैं और इसी दौरान वो मीड‍िया से खुल कर बात कर रहे हैं। 

'मन्नत' में बस 4 घंटे 

लगभग पच्चीस सालों से दर्शकों का मनोरंजन करने वाले शाहरुख खान कहते हैं कि हर रोज अपने कई फैंस से मैं मिलता हूं और कई नए कलाकरों से भी मुलाकात होती है। सभी कहते हैं कि काश आप जैसी ज़ि‍ंदगी मि‍ल जाए। उनकी इस तमन्ना पर एक ही बात कहता हूं कि मेरी ज़ि‍ंदगी जितनी आसान दिखती है, उतनी है नहीं।

वो आगे कहते हैं कि शाहरुख के स्टारडम को देखना चाहते हो, तो एक दिन मेरे साथ बीता कर देखो, सच्चाई खुद ब खुद सामने आ जाएगी। 

शाहरुख ने बताया कि सभी को यह जानकर हैरानी होगी कि मैं अपने बंगले में सिर्फ 4 घंटे ही रह पाता हूं। महंगी गाड़ि‍यों में बैठते ही काम करने लगता हूं। आज तक मैं यह भी नहीं देख पाया कि मेरी गाड़ी की लाइट कहां से जलती है और किस कलर की है। कई बार तो मैं नींद भी गाड़ी में ही पूरी करता हूं। 

यहां तक कि अपने बच्चों से मैं रात में तीन बजे मिल पाता हूं।  परदे पर सभी कुछ बहुत अच्छा नज़र आता है, लेकिन ज़ि‍ंदगी की सच्चाई संघर्ष भरी है। इस चकाचौंध को पाने के लिए कई सेक्रिफाइज़ तक करने पड़े और अब तो यह सब मेरी आदत ही बन गई है। 

मेरे बच्चे हैं विनम्र  

फिल्मी कलाकारों के बच्चों की छवि कुछ खास अच्छी नहीं होती है। लेकिन शाहरुख की मानें तो उनके बच्चे बेहद सहज और विनम्र हैं।

शाहरुख ने कहते हैं कि मेरे बच्चे मेरी तुलना में अधिक सहज हैं। हैरत की बात है कि लोगों को लगता है कि सितारों के बच्चे बिगड़ैल होंगे, लेकिन मेरे बच्चे बहुत विनम्र हैं। आर्यन एक विनम्र और हिम्मती बच्चा है और सुहाना भी उसी तरह है और दोनों को फिल्में पसंद हैं।

नहीं है ए‍क्टिंग में दिलचस्पी 

बॉलीवुड स्टार के बच्चे हैं, तो क्या वो भी एंटरटेंनमेंट इंडस्ट्री में कदम रखना चाहते हैं। इसके बारे में वो कहते हैं कि यह सब अफवाहें हैं।  उन्होंने कहा कि उनमें से कोई एक्टिंग में नहीं आना चाहता। वे सेट पर फिल्म-निर्माण को समझने आते हैं, क्योंकि इसमें उनकी रुचि है। अब उन्हें इसमें दिलचस्पी है तो अच्छी बात है और यदि इसमें दिलचस्पी नहीं है तो और भी अच्छी बात है। शाहरुख ने कहा कि उनके बच्चे अपनी प्राथमिक स्तर की शिक्षा पूरी करने के बाद ही सिने-जगत में कदम रखेंगे।

शाहरुख ने कहा, आर्यन पढ़ रहा है और दोनों को पढ़ना है। उन्हें अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करनी है। आर्यन फिल्म और टीवी पाठ्यक्रम कर रहा है। सुहाना स्कूल में है, इसलिए पहले वह अपनी स्कूली पढ़ाई पूरी करेगी और उसके बाद लंदन या अमेरिका से स्नातक की पढ़ाई करेगी। उन्होंने कहा कि मैंने तो  यह भी सुना है कि करण जौहर आर्यन को लॉन्च कर रहे हैं, यह बिलकुल भी सही ख़बर नहीं है। 

लेना हैं ब्रेक 

शाहरुख अभी फिल्मों से ब्रेक लेना चाहते हैं। उनकी फिल्म ‘फैन’ 15 अप्रैल को प्रदर्शित होने जा रही है । इसके बाद शाहरुख की फिल्म ‘रईस’रिलीज़ होगी। 'रईस' की शूटिंग पूरी हो चुकी है और अब शाहरुख कुछ समय ब्रेक लेना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मेरे घुटने में तकलीफ है। इसलिए अब मैं जून या जुलाई तक किसी फिल्म की शूटिंग शुरू नहीं करूंगा। 

हालांकि, शाहरुख ने कहा कि मैं आनन्द एल.राय और इम्तियाज अली की फिल्मों पर ध्यान दे रहा हूं। आनन्द राय की फिल्म में शाहरुख खान एक बौने का किरदार निभाने जा रहे हैं। इसके लिए उनकी वीएफएक्स तकनीकी टीम और आनन्द एल.राय इस पर काम कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि हमें कुछ समय चाहिए ताकि चीजों को सही किया जा सके,क्योंकि वीएफएक्स आसान नहीं है।

मुझे बौने का किरदार निभाने में कुछ समस्या हो सकती है। मुझे घुटने में तकलीफ है। ऐसे में किरदार वास्तविक नहीं लगेगा। हम वीएफएक्स प्रयोग करते हुए चीजों को सही कर रहे हैं। मैं फिल्म को वास्तविक अंदाज में शूट करना चाहता हूं,  क्योंकि मुझे यह मौका मिल रहा है जैसे मैं चाहता हूं। इसे करने में मुश्किल हुई तो हम विदेश जाएंगे और इसके बारे में सीखेंगे।

संबंधित ख़बरें

आगे फैन की रिलीज पर रोक से कोर्ट का इनकार