सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रजनीकांत के लिए ‘काला- करिकालन’ है बेहद ख़ास

इन दिनों मुंबई में दक्षिण के सुपरस्टार रजनीकांत अपनी आगामी फिल्म की शूटिंग कर रहे हैं। इस फिल्म को रजनी के लिए काफी अहम माना जा रहा है। ख़बरें है कि अभिनेता रजनीकांत फिल्म ‘काला-करिकालन’ की शूटिंग जल्दी-से-जल्दी पूर करना चाहते हैं। इसकी वजह है उनकी तमिल राजनीति में बढ़ती दिलचस्पी। कयास लगाए जा रहे हैं कि जुलाई के बाद वो राजनीति में कदम रखेंगे। 

रजनीकांत के लिए ख़ास है काला करिकालन
मुंबई। अभिनेता रजनीकांत मुंबई में बीते रविवार से फिल्म ‘काला करिकालन’ की शूटिंग में व्यस्त हैं। यह कहानी तिरुनेलवेली के एक ऐसे शख्स की है, जो मुंबई आकर स्थानीय तमिलों को एकजुट करता है। इस डॉन की छवि ‘रॉबिनहुड’ की तरह हो जाती है।

फिल्म ‘काला करिकालन’ को मणिरत्नम के निर्देशन में बनी कमल हसन की मुख्य भूमिका वाली फिल्म ‘नायकन’ और रजनीकांत की बीते साल आई फिल्म ‘कबाली’ का मिश्रण कहा जा रहा है।

अब इस फिल्म से रजनीकांत के राजनीतिक पेंच कैसे जुड़ते हैं? 

इस सवाल का सीधा जवाब यह है कि इस फिल्म में रजनीकांत का किरदार तमिलों के मसीहा का है। इस तरह अपने किरदार के मार्फत वो तमिल जनता के और करीब आ जाएंगे। हालांकि, रजनीकांत दक्षिण भारत में पूजे जाते हैं।

उनकी अच्छी खासी फैन फॉलोइंग है, लेकिन अभिनेता से नेता बनने के लिए तैयारी तो ज़रूरी है। बस उसी तैयारी को इस फिल्म के रूप में देखा जा सकता है। वहीं ख़बर है कि फिल्म में कई राजनीतिक संदेश होंगे, जो रजनीकांत की प्रस्तावित पार्टी के वैचारिक रुख को साफ करेंगी। 

बता दें कि मुंबई आने से पहले रजनीकांत ने राजनीतिक विश्लेषकों से लेकर कई समाचार संपादकों से मुलाक़ातें कीं। इन मुलाक़ातों में राजनीतिक स्थिति पर चर्चा भी की। ख़बरें यह भी हैं कि रजनीकांत का ‘थिंक टैंक’ निर्वाचन क्षेत्र के हिसाब से जातीय समीकरण के साथ आम आदमी के प्रमुख मुद्दों की भी जानकारी ले रहा है। 

इन ख़बरों के अलावा हाल ही में बेंगलुरु में रहने वाले रजनीकांत के भाई सत्यनारायण राव गायकवाड़ ने भी रजनीकांत के राजनिति में पदार्पण करने के संकेत दिए हैं।

उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि लोगों की इच्छा है कि रजनीकांत को राजनीति में आना चाहिए और उन्होंने अपने प्रशंसकों और शुभचिंतकों के साथ सलाह-मशिवरा भी किया। सत्यनारायण ने आगे कहा कि रजनीकांत के अगले कदम की जानकारी जुलाई के अंत तक हो जाएगी।

इसलिए फिल्म ‘काला करिकालन’ की शूटिंग फटाफट निबटाने के प्रयास में पूरी टीम है, ताकि जुलाई से पहले ही रजनीकांत अपनी राजनीतिक फैसले के लिए पूरी तरह आज़ाद रहें। 

जबरदस्त कास्टिंग है ‘काला करिकालन’ में


रजनीकांत की इस फिल्म की स्टारकास्ट जबरदस्त है। फिल्म में रजनीकांत के वफादार बने हैं राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता और निर्देशक समुथीरकानी। वहीं अभिनेत्रियों में हुमा कुरैशी, ईश्वरी राव और अंजली पाटिल के नाम शामिल हैं। इसके अलावा नाना पाटेकर, सयाजी शिंदे, रवि काले, पंकज त्रिपाठी, मिखी मिकीजा भी अहम भूमिकाओं में होंगे। 

फिल्म में दक्षिण भारतीय सहायक अभिनेताओं में संपत, अरुलदास, अरविंद आकाश, वाथिकूची दीपन, रमेश तिलक, मणिकंदन, वेलु शामिल हैं। वहीं सैंकड़ों जूनियर आर्टिस्ट भी इस फिल्म में नज़र आएंगे। 

बजट और तकनीकी पक्ष भी कमाल के


अब यदि तकनीकी पक्ष की बात करें, तो संगीत संतोष नारायणन देंगे। वहीं मुरली जी फिल्म के सिनमैटोग्राफर होंगे। फिल्म की एडिटिंग की जिम्मेदारी राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता एडिटर श्रीकर प्रसाद के कंधो पर होगी। ख़बर है कि फिल्म की शूटिंग 60 से 75 दिनों के भीतर पूरी हो जाएगी

अब फिल्म के बजट की बात हो जाए। बता दें कि फिल्म ‘काला करिकालन’ को रजनीकांत के दामाद और अभिनेता धनुष अपने प्रोडक्शन हाउस वंडरबार प्रोडक्शन के तहत कर रहे हैं। फिल्म का बजट करीब 150 करोड़ रुपए बताया जा रहा है। पीए रंजीथ के निर्देशन में बन रही इस फिल्म के लिए व्यवसायिक समीकरण की जोड़-तोड़ भी शुरू हो चुकी है। 

ख़ैर, फिल्म के किरदार से लेकर जल्दी पूरे करने के प्रयास के साथ, बीते दिनों हुई तमाम मुलाक़ातों से तो यह नज़र आ रहा है कि सुपरस्टार रजनीकांत जल्दी ही राजनीति की पिच पर भी उतरने वाले हैं। राजनीति की पिच कितनी रास आती है, यह तो वक़्त ही बताएगा, लेकिन उसके लिए की जा रही तैयारियां, तो उत्सुकता को बढ़ा रही हैं।

संबंधित ख़बरें