सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मीना कुमारी ने इस फिल्ममेकर की मदद के लिए बेच दिया था अपना फ्लैट

बॉलीवुड की बेहतरीन अदाकार मीना कुमारी, जिन्हें ट्रेजडी क्वीन कहा जाता है। ज़िंदगी के फैसले हमेशा दिल से लेने वाली अदाकारा के हिस्से खुशियां कम और ग़म ज़्यादा आए। इसके बावजूद उन्होंने अपने दिल की सुनने की आदत ताउम्र जारी रखी। इंतहा तो देखिए कि एक फिल्मकार की मदद की ख़ातिर उन्होंने अपने एक फ्लैट को ही बेच दिया। मीना कुमारी की सालगिरह पर आज वो क़िस्सा आफ सबके लिए... 

ट्रेजडी क्वीन मीना कुमारी
मुंबई। हिंदी सिने जगत की बेजोड़ अदाकारा मीना कुमारी का आज जन्मदिन है। उस पेशे में अपने नाम का सिक्का जमा दिया, जिसमें वो बिलकुल भी नहीं आना चाहती थीं। फिर भी घर चलाने के लिए मजबूरन ‘महज़बीं बानो’ यानी मीना कुमारी को कैमरे से इश्क़ करना ही पड़ा। 

तमाम ग़मों से दो-चार होती मीना इस फानी दुनिया से सिर्फ़ 38 साल की उम्र में ही रुख़सत हो गईं और अपने पीछे छोड़ गईं कई क़िस्से-कहानियों का पिटारा। ज़िंदगी में उन्होंने प्यार खोज़ा, फिर पाया और उसे खो भी दिया। कईयों ने उनकी नेक दिली का जमकर फायदा भी उठाया और फिर इस अदाकारा को तन्हा छोड़ दिया। 

दर्द के लत की इस क़दर शिकार हो चुकी थी कि शायद बगैर दर्द के वो जी न पाती। सुकून की तलाश करते-करते बैचेनी में जीती रहीं। इस अदाकार ने शायरा बन अपने दर्द को पन्नों पर पनाह दी। लेकिन किसी की मदद से कभी भी हाथ नहीं खींचा। 

ऐसे ही एक मदद का क़िस्सा आज इस ख़ास मौक़े पर। 

बात 60 के दशक के अंतिम सालों की है। तब मीना कुमारी टॉप की एक्ट्रेस हुआ करती थी। तभी कोई बीस साल  के एक लड़के ने मीना कुमारी को डायरेक्ट करने के लिए अप्रोच किया। 

उस लड़के का नाम था सावन कुमार टाक। इस डायरेक्टर ने इससे पहले ‘नौनिहाल’ नाम की एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाई थी, जिसके गीत कैफ़ी आज़मी ने लिखे थे। इस फिल्म में भारत के पहले राष्ट्रपति राजेन्द्र कुमार की आंतिम यात्रा दिखाई गई थी। 

अब हुआ यह कि सावन, मीना कुमारी को लेकर फिल्म बनाना चाहते थे, लेकिन हिम्मत नहीं हो पा रही थी। एक दिन हिम्मत करके उन्होंने मीना कुमारी के घर फोन लगा दिया। फोन रिसीव किया मीना की बहन खुर्शीद ने। उस वक़्त खुर्शीद ही मीना कुमारी के काम को देखा करती थीं। 

ख़ैर, सावन कुमार टाक ने अपने बारे में सारी जानकारी दी और अपनी फिल्म के बारे में भी बताया। खुर्शीद ने सावन से कहा कि आप मीना आपा को आकर अपनी कहानी सुना दीजिए। तुरंत मुलाक़ात का वक़्त भी मुकर्रर कर लिया गया। 

अब मुलाक़ात वाले दिन जब मीना कुमारी ने इतनी कम उम्र के डायरेक्टर को देखा, तो वो घबरा गईं। फिर भी उन्होंने सावन की बात को इत्मीनान से सुना। सावन की कहानी को लेकर मीना सकारात्मक थीं। 

एक दिन मीना के यहां से सावन को फोन गया कि फिल्म कब शुरू करना चाहते हैं, मीना कुमारी इस फिल्म में काम करने को तैयार हैं। 

फिल्म की शूटिंग शुरू हो गई और तकरीबन छह महीने की शूटिंग के बाद एक दिन सावन ने मीना कुमारी को फिल्म के कुछ हिस्से दिखाए। वो देखकर मीना काफी खुश हो गई, लेकिन तभी मीना की तबियत अचानक ख़राब हो गई। 

सावन के काम से मीना काफी प्रभावित हुई और अब सावन का मीना के घर बेरोक-टोक आना भी शुरू हो चुका था। बीमार मीना को देखने सावन रोज यानी 60 के दशक में तीन सौ रुपए के फूल लेकर जाया करते थे।

सावन, मीना कुमारी से बैठ कर घंटों बात किया करते थे। यहां तक कि जब मीना खून की उल्टी करती थी, तो सावन खुद फर्श साफ किया करते थे। इसी दौरान एक दिन मीना ने कहा, ‘सावन, तुम जितनी मेरी सेवा करते हो, उतनी तो किसी अपने ने भी नहीं की होगी’। 

मीना ने आगे कहा कि सावन यूं मेरे घर आकर तुम अपना समय मत बर्बाद किया करो। अपनी फिल्म पर ध्यान दो और उसे पूरी करो। 

सावन ने कहा कि मीना जी मेरी फिल्म नहीं बनेंगी, क्योंकि फाइनेंस जितना भी था, सब ख़त्म हो गया है। सावन की बात सुन मीना चुपचाप देखती रहीं। कुछ देर बात मीना ने सावन से कहा कि देखो परेशान न हो। कुछ न कुछ इंतज़ाम हो जाएगा। 

एक इंटरव्यू के दौरान इस क़िस्से को सच बताते हुए ख़ुद सावन कुमार ने कहा कि मीना कुमारी ने कुछ दिनों बाद मुझे डेढ़ लाख रुपए दिए। रुपए देते समय उन्होंने यह भी कहा कि इसे दान मत समझना। जब तुम्हारे पास पैसे आए, तो इन्हें लौटा देना। अब फिल्म को जल्दी से जल्दी पूरी करो। कहीं ऐसा न हो कि इस फिल्म को देखने से पहले ही मैं चली जाऊं। 

इस वाकये के कुछ दिन बाद पता चला कि मीना कुमारी ने अपना बांद्रा वाला फ्लैट मुमताज़ को बेच कर डेढ़ लाख रुपए सावन कुमार को दिए थे, ताकि वो फिल्म पूरी कर सकें। 

सावन कुमार, मीना कुमारी के इस अहसान को कभी नहीं भूलें, तभी तो जब मीना कुमारी अस्पताल में थीं और उनके पास अपने इलाज़ तक के पैसे ख़त्म हो गए थे, तब सावन कुमार ने अपनी महंगी गाड़ी बेचकर अस्पताल के पंद्रह हज़ार का बिल चुकाया था। 

ख़ैर, जिस फिल्म की बात की जा रही है, वो फिल्म साल 1972 में आई ‘गोमती के किनारे’ है। यह मीना कुमारी की आखिरी रिलीज़ फिल्म थी। हालांकि, यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ ख़ास कमाल तो नहीं कर पाई। फिर भी सावन कुमार के करियर की गाड़ी को एक स्टार्ट तो मिल ही गया। 

इसमें मुमताज़ के साथ समीर खान मुख्य भूमिका में थे। इस फिल्म से सावन कुमार ने बतौर निर्देशक अपने करियर की शुरुआत की थी। 

इस फिल्म को लेकर एक ख़ास बात यह भी है कि फिल्म में मुमताज़ के अपोज़िट पहले अमिताभ बच्चन को लिया जाना था, लेकिन मुमताज़ तब खान बंधुओं के करीब हुआ करती थी, तो उन्होंने समीर खान को इस भूमिका के लिए रिकमंड किया। 

बता दें कि समीर खान, फिरोज़ खान और संजय खान के भाई हैं और उन्होंने ‘क़ैद’, ‘प्यार का रिश्ता’ नाम की कुछेक फिल्में की हैं।

संबंधित ख़बरें
आगे सोने की एक्टिंग करते हुए सच में सो गए अमिताभ बच्चन