सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ऑस्कर की रेस से बाहर हुई राजकुमार राव की ‘न्यूटन’

भारत की ओर से ऑस्कर 2018 में सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म के लिए राजकुमार राव अभिनीत ‘न्यूटन’ को आधिकारिक प्रविष्टि मिली थी, लेकिन ताज़ा जानकारी के अनुसार अब ‘न्यूटन’ अकादमी पुरस्कार (ऑस्कर) की रेस से बाहर हो गई है। 

राजकुमार की न्यूटन हुई ऑस्कर की रेस से बाहर
मुंबई। राजकुमार राव अभिनीत फिल्म ‘न्यूटन’ से हिन्दी सिनेप्रेमियों को काफी उम्मीदें थीं, लेकिन एक बार फिर भारत में ऑस्कर आने की उम्मीद को झटका लगा है। साल 2018 की उम्दा फिल्मों में से एक ‘न्यूटन’ 2018 के ऑस्कर आवॉर्ड्स की रेस से बाहर हो चुकी है। 

ऑस्कर की आधिकारि वेबसाइट के मुताबिक़ एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज ने गुरुवार को घोषणा की कि 90वें आकादमी पुरस्कारों के लिए विदेशी भाषा फिल्म की श्रेणी में 9 फीचर फिल्में प्रतियोतिका के अगले दौर में शामिल होंगी। 

‘द एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज’ यानी एएमपीएएएस ने घोषणा की कि अमित मसुरकर के निर्देशन में बनी फिल्म ‘न्यूटन’ उन 9 फिल्मों का हिस्सा नहीं है, जिन्होंने अगले चरण की वोटिंग में जगह बनाई है। 

अगले चरण में जाने वाली फिल्में हैं, चिली की ओर से ‘ए फैंटेस्टिक वुमैन’, जर्मनी की तरफ से ‘इन द फेड’, हंगरी से ‘ऑन बॉडी एंड सोल’, इस्रायल से ‘फॉक्सट्रोट’, लेबनान से ‘द इनसल्ट’, रूस से ‘लवलेस’, सेनेगल से ‘फेलिसाइट’, साउथ अफ्रीका से ‘द वूंड’ और स्वीडन से ‘द स्क्वेयर’।

फिल्म ‘न्यूटन’ की कहानी एक सरकारी क्लर्क के इर्द-गिर्द घूमती है, जो स्वतंत्र और अच्छी तरह से नक्सल प्रभावित इलाक़े में चुनाव करवाने की कोशिश करता है। फिल्म में राजकुमार राव के अलावा पंकज त्रिपाठी, रघुबीर यादव, अंजलि पाटिल, दानिश हुसैन और संजय मिश्रा मुख्य भूमिकाओं में हैं। 

ग़ौरतलब है कि अभी तक किसी भी भारतीय फिल्म की झोली में ऑस्कर नहीं आया है। सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म की श्रेणी में अंतिम पांच तक पहुंचने वाली आख़िरी भारती फिल्म साल 2011 में आई आशुतोष गोवारिकर फकी फिल्म ‘लगान’ थी। वहीं साल 1958 में महबूब खान की ‘मदर इंडिया’ और मीरा नायर की साल 1989 में आई ‘सलाम बॉम्बे’ ने भी शीर्ष पांच में जगह बनाई थी। 

ख़ैर, जब फिल्म ‘न्यूटन’ को ऑस्कर के लिए भेजने का फैसला लिया गया, तो भारतीय मीडिया में काफी बवाल मचा। दरअसल, कई लोगों का कहना था कि ‘न्यूटन’ के बजाय आमिर खान की ‘दंगल’ को भारत की ओर से ऑस्कर के लिए भेजना चाहिए था। वहीं कुछ का कहना था कि ‘न्यूटन’ फिल्म एक विदेशी भाषा की कॉपी भी है। 
अब चाहे वजह कुछ भी, फिलहाल इस साल भारत की ऑस्कर की उम्मीदें ख़त्म हो चुकी हैं। बता दें कि ऑस्कर अवॉर्ड्स का आयोजन चार मार्च को लॉस एंजिलिस में किया जाएगा। 

संबंधित ख़बरें