नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी ने कहा, 'ईद मनाने नहीं, बल्कि...'

नाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी ने बताया कि वो अपने पुश्तैनी गांव ईद मनाने नहीं, बल्कि अपनी बीमार मां को लेकर पहुंचे हैं। बता दें, नवाज़ुद्दीन उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर नगर के बुढ़ाना कस्बे के अपने पुश्तैनी घर पर पहुंचे हैं। जहां पर उनका कोरोना वायरस टेस्ट किया, जिसमें वो कोविड-19 नेगेटिव पाए गए हैं। 

nawaziddin siddiqui says i am not coming budhana for celebrationg eid
देशभर में कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन लगा है। इस स्थिति में जो जहां है, उसे वहीं रूक जाने के आदेश है। लॉकडाउन का आमजन से लेकर सेलेब तक को सख्ती से पालन करने की हिदायत दी गई है, जिसकी सभी पालन भी कर रहे हैं। 

वहीं इसी बीच ख़बरें आईं कि नवाज़ु्द्दी सिद्दीक़ी मुंबई से उत्तर प्रदेश ईद मनाने के लिए पहुंचे हैं। शनिवार को नवाज़ बुढ़ाना पहुंचे, जहां पर उनका 'कोविड 19' टेस्ट किया गया, जिसमें उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है, लेकिन इसके बाद भी नवाज़ ने खुद को क्वारंटीन कर लिया है। 

बता दें, नवाज़ुद्दीन उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना कस्बे के रहने वाले हैं। लगभग हर साल वो ईद के मौके पर अपने पुश्तैनी गांव जाते हैं। इस बार भी उनके जाने की ख़बरों ने ज़ोर पकड़ा। साथ ही सोशल मीडिया पर इस मामले ने तूल पकड़ना शुरू कर दिया। 

मामले को तूल पकड़ता देख, नवाज़ुद्दीन के भाई शम्स सिद्दीक़ी ने सोशल मीडिया पर बताया कि उनके भाई नवाज़ ने मुंबई से यूपी तक आने के लिए प्रशासन से जरूरी परमिशन ली थी। इसके साथ शम्स इस परमिशन की एक कॉपी भी सोशल मीडिया पर शेयर की है। 

अपने ट्वीट में शम्स ने लिखा, 'हाल में कैंसर से हमारी बहन के निधन के बाद, हमारी 71 वर्षीय मां काफी बीमार हैं। इसीलिए नवाजुद्दी सिद्दीकी को मां के साथ बुढाना जाना पड़ा। वे वहां ईद मनाने नहीं गए हैं।' 


नवाज़ ने भी ट्वीट कर जानकारी दी है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, 'मेरी छोटी बहन की हाल में निधन हुआ है, जिसके कारण मेरी 71 साल की मां को 2 बार एंजाइटी अटैक आ चुका है। हम राज्य सरकार की दी हुई सभी गाइडलाइंस का पालन कर रहे हैं। हम लोग बुढाना में होम क्वॉरंटीन हैं। कृपया घर पर रहें और सुरक्षित रहें।'


वहीं एक पोर्टल से बात करते हुए नवाज़ ने कहा, 'अभी जब पूरा देश कोरोना संकट से जूझ रहा है। ऐसे में कोई किसी भी प्रकार के सेलीब्रेशन के बारे में कैसे सोच सकता है? नहीं, मैं अपने पुश्तैनी घर ईद मनाने के लिए नहीं आया हूं। मैं यहां अपनी बीमार मां के लिए आया हूं।'

मां के बारे में बात करते नवाज़ ने कहा, 'किसकी मां जान से प्यारी नहीं होती हैं ? यकीनन मैं इस दुनिया में सबसे ज्यादा अपनी मां से प्यार करता हूं। जब मुझे पता चला कि वो बीमार हैं, तो मैंने तुरंत बुढ़ाना आने की तैयारी शुरू कर दी थी। इस धरती पर ऐसी कोई शक्ति नहीं थी, जो मुझे क्वांरटीन से बाहर निकालती, वो तो मां बीमार हैं। इसलिए मुझे बाहर निकलना पड़ा।'

जब बुढ़ान से वापसी का सवाल उनसे किया गया, तो उन्होंने कहा, 'किसी को नहीं पता ये संकट कब तक चलेगा? मैं पहले ही अपनी पत्नी और दोनों बच्चों से दूर हूं। अब कम से कम मैं अपनी मां के करीब तो हूं।'

बता दें कि नवाज़ की पत्नी आलिया लॉकडाउन शुरू होने से पहले ही अपने दोनों बच्चों को लेकर अपने माता-पिता के घर जबलपुर के लिए निकल गई थीं।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां