सुशांत सिंह राजपूत के परिवार ने जारी किया 'गुड बाय नोट'



सुशांत सिंह राजपूत के निधन को तेरह तीन बीत चुके हैं। ऐसे में उनकी तेरहवीं पर परिवार ने 'गुड बाय नोट' जारी किया, जिसमें लिखा गया है कि पटना के उनके घर को मेमोरियल में तब्दील किया जाएगा। इसके अलावा एसएसआर फाउंडेशन की स्थापना की जाएगी। इस फाउंडेशन के तहत सिनेमा, साइंस और स्पोर्ट्स की फील्ड में काम करने वाली प्रतिभाओं को प्रोत्साहित किया जाएगा। 

sushant singh rajput family emotional good bye note
सुशांत सिंह राजपूत के निधन को 13 दिन बीत गए हैं। ऐसे में उनके परिवार ने उनकी तेरहवीं क्रिया की और साथ में एक्टर के लिए 'गुड बाय नोट' जारी किया, जिसमें उनके घर को मेमोरियल में तब्दील करने के साथ एक्टर के नाम से यानी एसएसआर फाउंडेशन की शुरुआत की जाएगी। 

बीते 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत अपने घर में मृत पाए गए। पुलिस की प्राथमिक जांच में फांसी लगाकर आत्महत्या करना बताया जा रहा है। वहीं सोशल मीडिया पर इसे हत्या कहा जा रहा है। फिलहाल सुशांत की मृत्यु को लेकर पुलिस गहन जांच-पड़ताल में जुटी हुई है। एक तरफ फॉरेंसिंक रिपोर्ट्स, तो दूसरी तरफ सुशांत से जुड़े लोगों से कड़ी पूछताछ किया जा रहा है, ताकि मामले को समझा जा सके। 

वहीं अभिनेता के असमायिक निधन से परिवार के ऊपर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। वहीं परिवार और फैन्स सुशांत से जुड़ी यादों को संजो कर रखना चाहते हैं। इसलिए परिवार ने सुशांत के नाम से फाउंडेशन शुरू करने के साथ उनके घर को मेमोरियल में तब्दील करने का फैसला लिया है। 

इस बात का ऐलान परिवार ने उनकी तेरहवीं के दिन एक 'गुड बाय नोट' के जरिये किया। 'गुड बाय सुशांत...आपके लिए सुशांत सिंह राजपूत और हमारे लिए हमारा इकलौता और दुलारा गुलशन। खुला दिल, बातूनी और तेज दिमाग। हर चीज को लेकर जिज्ञासु। हर बात को लेकर उत्सुक। बड़े सपने देखना और उन्हें सच कर दिखाना उनका शौक था। मुस्कुराते थे, तो पोर-पोर खिल उठता था। परिवार के बड़ों का गौरव और बच्ंचो के प्रेरणा-पुंज थे। एक दूरबीन हमेशा साथ रखते शनि ग्रह के छल्लों को निहारने का शौक जो था। हमें यह मानने में बरसों लगेंगे कि उनकी सहज हंसी अब कभी हमारे कानों में नहीं गूंजेगी।'

'विज्ञान की बातें हमें समझाने की उनकी ललक हमें फिर कभी देखने को नहीं मिलेगी। वे परिवार में कभी ना भरी जा सकने वाली रिक्तता छोड़ गए हैं। इस शून्य से हम स्तब्ध हैं। वे अपने प्रशंसकों से बेहद प्यार करते थे। आप सबने हमारे गुलशन पर जो असीम प्रेम बरसाया है, उसके लिए हम हदय से कृतज्ञ हैं। अब जब वो हमारे साथ नहीं हैं, उनके स्मृति को संजोने के लिए हमने सुशांत सिंह राजपूत फाउंडेशन की स्थापना की है। उद्देश्य सुशांत के पसंदीदा क्षेत्र जैसे कि सिनेमा, विज्ञान और खेल में उभरती प्रतिभाओं को समर्थन प्रोत्साहन देना है।'

'उनका बचपन पटना के राजीव नगर में बीता था। उनके आवास को हम उनका स्मारक बनाने जा रहे हैं। वहां उनकी हजारों किताबें, दूरबीन, फ्लाइट-स्मियूलेटर, गिटार, फर्निचर, और अन्य चीजों को प्रदर्शित करने का विचार है। हमारी हार्दिक इच्छा है कि उनके प्रशंसक उनसे जुड़े रहें। सुशांत के इंस्टाग्राम पेज को करोड़ों प्रशंसक फॉलो करते हैं। हम इसे लेगेसी अकाउंट की तरह चलाए रखना चाहते हैं, जिससे कि सुशांत के दिल का रिश्ता उनके प्रशंसकों के साथ हमेशा बना रहे।'

टिप्पणियां