नमिश तनेजा पर 'हाथ उठाने' के बाद नीलू वाघेला को क्यों हुआ था दुख?

धारावाहिक 'ऐ मेरे हमसफर' में नज़र आ रही नीलू वाघेला ने अपने को-एक्टर नमिश तनेजा को लेकर कहा कि वो नमिश को अपना बेटा मानती हैं। ऐसे में जब एक सीन में उन्हें नमिश पर हाथ उठाना पड़ा, तो उन्हें बहुत दुख हुआ। नीलू ने यह भी बताया कि नमिश उन्हें ऑफ स्क्रीन 'मां' कह कर संबोधित करते हैं। 

Neelu Vaghela says I consider Namish as my son and felt very upset after I had to raise my hand on him
भारतीय टेलीविजन पर जोड़ियां अपने दर्शकों के दिलों में जगह बनाने की कोशिश करती हैं। हालांकि, यह बहुत बार नहीं है कि एक मां-बेटे की जोड़ी को इतना प्यार मिला है कि इसे लोकप्रिय मांग के कारण स्क्रीन पर वापस लाया गया है।

नमिश तनेजा और नीलू वाघेला की जोड़ी को पहले एक शो में सासू मां और दामाद के रूप में इतना अधिक पसंद किया गया था, कि उन्हें दंगल के एक नए शो, 'ऐ मेरे हमसफर' में वापस लाया गया है, लेकिन इस बार यह दोनों मां और बेटे की भूमिका में नज़र आ रहे हैं। 

नमिश के साथ एक बार फिर काम करने के बारे में बात करते हुए नीलू वाघेला कहती हैं, 'मैंने पहले से ही इस शो के ज्यादातर कलाकारों के साथ काम किया है। इसलिए यह अपने ही परिवार में वापस आने जैसा लग रहा है। नमिश और मैं एक मां-बेटे की जोड़ी के रूप में एक साथ वापस आए हैं और हमारी केमिस्ट्री बहुत वास्तविक लग रही है। मैं उसके साथ वैसा ही व्यवहार करती हूं जैसा मैं अपने बेटे के साथ करती हूं। वास्तव में एक दृश्य के लिए जब मुझे उस पर अपना हाथ उठाना पड़ा, तो मुझे बहुत बुरा लगा, मुझे ऐसा लगा जैसे मैं अपने बेटे के साथ इस तरफ व्यवहार कर रही हूं। मुझे शांत होने और खुद को समझने के लिए एक मिनट लेना पड़ा कि यह सिर्फ एक शॉट था। नमिश मुझे प्यार से मां कह कर ऑफ-स्क्रीन भी संबोधित करते हैं।'

वहीं नमिश तनेजा ने बताया कि 'वेद' की भूमिका स्वीकार करने का एक कारण यह था कि नीलू वाघेला उनकी मां की भूमिका में होंगी। वे कहते हैं, 'पिछले शो में हमारी केमिस्ट्री को आज भी बहुत प्यार मिल रहा है। हमने कभी नहीं सोचा था कि हमें दोबारा साथ काम करने का मौका मिलेगा। जब मुझे 'ऐ मेरे हमसफर' के लिए चुना गया था, मुझे बताया गया था कि नीलू मैम भी शो का हिस्सा थीं। यह पता लगने पर मैंने उन्हें फोन करके पूछा था। जैसे ही उन्होंने पुष्टि की, मेरे चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान आ गई। उसके बाद तो यह शो मेरे लिए सोने पे सुहागा हो गया। मैंने झट से इस शो के लिए हामी भर दी। मैं उनकी उपस्थिति को एक आशीर्वाद मानता हूं और वह मुझे अपने बेटे की तरह मानते हैं और मुझे इतनी अच्छी तरह समझते हैं।'

टिप्पणियां