SSR Death Case: सुशांत सिंह राजपूत के 'मर्डर' का लाइव टेलीकास्ट 'डार्क वेब' पर हुआ था?

सुशांत सिंह राजपूत के मामले में पेशे से वकी विभोर आनंद ने दावा किया कि 13 जून की रात को 'डार्क वेब' के जरिये सुशांत के मर्डर का लाइव टेलीकास्ट हुआ था। सुशांत सिंह राजपूत के अलावा दिशा सालियान और एक माइनर लड़की की भी हत्या का लाइव टेलीकास्ट किया गया था, जिसे लोगों ने लाइव देखा। 

Sushant Singh Rajputs Murder was telecast live via dark web claims a lawyer Vibhor Anand

सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को अपने बांद्रा स्थित फ्लैट में मृत पाए गए थे। तब से उनके निधन की गुत्थी हत्या-आत्महत्या के बीच झूल रही है। सुशांत के मृत शरीर की तस्वीरें सोशल मीडिया में सामने आने पर लोगों ने उनकी हत्या की आशंका जताई थी। 

वहीं मुंबई पुलिस और कूपर अस्पताल की तरफ से की गई लापरवाहियों की वजह से यह शक और गहराने लगा है। इसके बाद अब सुशांत सिंह राजपूत को लेकर ऐसा दावा किया गया है, जिसे जानने के बाद बवाल और भी बढ़ सकता है। 

दरअसल, पेशे से वकील विभोर आनंद ने दावा किया है कि सुशांत सिंह राजपूत का मर्डर करने वालों ने उनकी मौत का लाइव टेलीकास्ट किया था। 

विभोर आनंद ने ट्विटर पर लिखा, 'सुशांत सिंह राजपूत, दिशा सालियान और माइनर लड़की के मर्डर को डार्क वेब के जरिये पूरे दुनिया भर में लाइव टेलीकास्ट किया गया था। यही वजह है कि क्यों सुशांत को इतनी बेरहमी के साथ मारा गया और सभी बॉलीवुड सितारे सुशांत को लाइव मरता हुआ देख रहे थे।'

Sushant Singh Rajputs Murder was telecast live via dark web claims a lawyer Vibhor Anand

विभोर आनंद के इस दावे के बाद सुशांत सिंह राजपूत के फैंस के होश उड़ चुके हैं और वो लगातार बॉलीवुड सितारों को खरी-खोटी सुना रहे है।

एक यूजर ने लिखा, 'आखिर इन लोगों को नींद कैसे आ रही है?' वहीं एक शख्स ने लिखा, 'अगर ये वाकई में सच है तो ये दिल दुखाने वाला है।' एक अन्य ने लिखा, 'वो लोग डर गए हैं क्योंकि कंगना मुंबई आ चुकी है और उन्हें सीबीआई और एनसीबी कभी भी पूछताछ के लिए बुला सकता है। वो लोग कंगना का ध्यान भटका रहे हैं।' 

जानिए क्या होता है डार्क वेब?

सुशांत सिंह राजपूत को लेकर किए गए दावे के बाद अब हर किसी के मन में सवाल उठ रहा है कि आखिर ये डार्क वेब क्या है? बहुत कम लोग जानते है कि इंटरनेट की दुनिया काफी रहस्यमयी है और हमें सिर्फ इसका 4% हिस्से के बारे में ही पता है। इंटरनेट की दुनिया तीन अलग-अलग भागों (सरफेस, डीप और डार्क) में बंटी हुई है। डार्क वेब इंटरनेट की आखिरी परत है, जिसे आप क्रोम या मोजिला ब्राउजर के माध्यम से नहीं जा सकते हैं। डार्क वेब में स्पेशल एक्सेस के जरिये ही एंट्री हो पाती है। डार्क वेब के जरिये ड्रग्स का व्यापार, हथियारों की सौदेबाजी और बाकी गैर-कानूनी काम होते हैं।

संबंधित खबरें
➤ SSR Death Case: NCB ने रिया चक्रवर्ती को किया गिरफ्तार

टिप्पणियां