ओटीटी पर रिलीज़ हो चुकी फिल्मों को नहीं मिलेगी सिनेमाघरों में जगह

सिनेमाघर मालिकों ने अपने तेवर कड़े करते हुए फिल्म निर्माताओं को बता दिया है कि ओटीटी पर डायरेक्ट रिलीज़ हो चुकी फिल्मों को सिनेमाघरों में जगह नहीं मिलेगी। थिएटर में रिलीज़ हो चुकी पुरानी फिल्मों को री-रिलीज़ करेंगे और नई फिल्मों के बनने का इंतज़ार किया जाएगा। ऐसे में सुशांत की 'दिल बेचारा' को बड़े पर्दे पर देखने की उम्मीद करने वालों को 'केदारनाथ' देखने को मिलेगी। वहीं 'गुलाबो-सिताबो', 'शकुंतला देवी', 'गुंजन सक्सेना' भी बड़े पर्दे पर नहीं होगी रिलीज़।

Theater owner will not screen these films which release directly on ott platforms

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते देशभर में लॉकडाउन लगा और सिनेमाघरों में भी ताला पड़ गया। अब धीरे-धीरे न्यू नॉर्मल के साथ लोग जीना सीख रहे हैं, तो ऐसे में केंद्र सरकार ने भी सिनेमाघरों पर पड़े तालों को खोल दिया है। हालांकि, सिनेमाघर मालिकों को कड़े दिशा-निर्देशों की लंबी सूचि भी पकड़ा दी है।

ख़ैर, सिनेमाघर खुलने के आदेश मिलते ही सिनेमाघर मालिकों ने अपने तेवर दिखाने भी शुरू कर दिए हैं। उन्होंने साफ कर दिया है कि वह अपने सिनेमाघरों में उन फिल्मों को रिलीज़ नहीं करेंगे, जो लॉकडाउन के दौरान सीधे ओटीटी पर रिलीज़ हो चुकी हैं।

इन फिल्मों में सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म 'दिल बेचारा', संजय दत्त, आलिया भट्ट, आदित्य रॉय कपूर की 'सड़क 2', विद्या बालन की 'शकुंतला देवी', विद्युत जामवाल की 'खुदा हाफिज', जान्हवी कपूर की 'गुंजन सक्सेना- द कारगिल गर्ल', अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना की 'गुलाबो सिताबो' सरीखी कई फिल्में हैं।

अब इस कड़े तेवर को समझने के लिए आपको थोड़ा पीछे जाना होगा। मामला यह है कि जब इन फिल्मों के निर्माताओं ने अपनी फिल्मों को सिनेमाघरों की बजाय सीधे ओटीटी पर रिलीज करने की घोषणा की थी, तब सिनेमाघरों के मालिकों ने एक प्रेस रिलीज जारी करके फिल्म निर्माताओं के फैसले पर आपत्ति जताई थी।

सभी ने एकजुट होकर कहा था कि वह फिल्म निर्माताओं के फिल्मों को ओटीटी पर रिलीज करने के फैसले से काफी निराश हैं। उनके इस फैसले से फिल्मों और सिनेमाघरों के बीच मतभेद पैदा हो सकते हैं। हालांकि, इसके जवाब में निर्माताओं ने भी सिनेमाघर मालिकों को यह भरोसा दिलाया था कि देश में जब सिनेमाघरों के ताले फिर से खुलेंगे, तब वह अपनी फिल्में इन सिनेमाघरों में ही रिलीज करेंगे।

अब जब पूरे देश में अनलॉक-5 की शुरुआत हो चुकी है, तो कुछ एक राज्यों को छोड़कर सभी जगह सिनेमाघर 15 अक्टूबर से खुलने वाले हैं।

ऐसे में सिनेमाघरों के मालिकों ने ओटीटी पर रिलीज हो चुकी फिल्मों को अपने यहां फिर से रिलीज करने से साफ मना कर दिया है। सिनेमाघर मालिकों ने जिन फिल्मों को रिलीज़ करने से मना किया है, उनमें से बड़े सितारों से सजी कई फिल्में हैं।

वहीं सिनेमाघरों ने घोषणा की है कि लंबे समय के बाद खुलने जा रहे सिनेमाघरों में शुरू के दिनों में 'शुभ मंगल ज्यादा सावधान', 'मलंग', 'केदारनाथ', 'थप्पड़', 'तानाजी- द अनसंग वॉरियर' और 'वॉर' जैसी फिल्मों को फिर से सिनेमाघरों में रिलीज करेंगे। जैसे-जैसे नई फिल्में तैयार होकर सिनेमाघरों में आती जाएंगी, वैसे ही इन पुरानी फिल्मों का चलन कम होता जाएगा।

संबंधित ख़बरें
15 अक्टूबर से खुल जाएंगे सिनेमाहॉल

टिप्पणियां