नेटफ्लिक्स की 'बॉम्बे बेगम' की स्ट्रीमिंग पर रोक लगाने की मांग

नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज़ 'बॉम्बे बेगम' विवादों में घिर गई है। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) बाल आयोग ने नेटफ्लिक्स को नोटिस भेजा है और 24 घंटे में जवाब मांगा है, साथ ही स्ट्रीमिंग पर रोक लगाने की मांग भी की है। वेब सीरीज़ 'बॉम्बे बेगम' 8 मार्च को रिलीज़ की गई थी, जिसमें 5 अलग-अलग महिलाओं की कहानी दिखाई गई है।

pooja-bhatt-bombay-begum-in-trouble-ncpcr-gave-notice-to-netflix-on-objectionable-scenes

वेब सीरीज़ 'तांडव' के बाद एक और वेब सीरीज़ विवादों में घिर गई है। 8 मार्च को नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई पूजा भट्ट स्टारर 'बॉम्बे बेगम' के कुछ सीन्स पर बाल आयोग ने आपत्ति जताई है।

नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज़ 'बॉम्बे बेगम' के कुछ सीन्स को लेकर अब राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने मेकर्स को नोटिस भेजा है। साथ ही एनसीपीसीआर ने सीरीज की स्ट्रीमिंग को रोकने की ही मांग कर दी है। साथ ही आयोग ने नेटफ्लिक्स से 24 घंटे में इसे लेकर रिपोर्ट पेश करने को कहा है।

NCPCR बाल अधिकारों के संरक्षण को लेकर सक्रिय है। जहां आयोग ने Netflix को 24 घंटे में रिपोर्ट पेश करने को कहा है, तो वहीं यह भी कहा है कि यदि ऐसा नहीं किया गया, तो कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। फिलहाल आयोग ने एक शिकायत पर नेटफ्लिक्स को नोटिस भेजा है।

बता दें कि इस वेब सीरीज में एक 13 साल की बच्ची को ड्रग्स लेते दिखाया गया है। वहीं इसके साथ ही सीरीज में नाबालिगों का कैजुअल सेक्स करते दिखाया गया है और स्कूली बच्चों का गलत चित्रण दिखाने को लेकर भी बवाल शुरू हुआ है।

इन सीन्स को लेकर शिकायत में दर्ज करवाया गया है कि इस तरह के कंटेंट से युवाओं और बच्चों पर गलत प्रभाव पड़ता है। साथ ही बच्चों के साथ दुर्व्यवहार और शोषण के मामले भी ज्यादा सामने आते हैं। फिल्म की जल्द से जल्द स्ट्रीमिंग पर रोक लगाने की मांग की जा रही है।

ग़ौरतलब है कि वेब सीरीज़ में पूजा भट्ट के अलावा सुहाना गोस्वामी, अमृता सुभाष, आध्या आनंद और प्लाबिता बोर मुख्य भूमिका में है।

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां