Sam Bahadur: 'सैम मानेकशॉ' हुए 'सैम बहादुर', विक्की कौशल की फिल्म को मिला टाइटल

फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ की जयंती पर, उनकी बायोपिक के टाइटल की घोषणा कर दी गई। फिल्म के निर्माताओं टीज़र जारी करते हुए बताया कि फिल्म का नाम 'सैम बहादुर' होगा। विक्की कौशल स्टारर इस फिल्म को मेघना गुलज़ार निर्देशित करेंगी। वहीं टीज़र में फिल्म के टाइटल से गीतकर-स्क्रिप्ट राइटर गुलज़ार की आवाज़ ने रू-ब-रू करवाया।

vicky-kaushal-starrer-sam-manekshaw-biopic-gets-its-title-sam-bahadur-teaser-release

फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ की जयंती पर, उनकी बायोपिक के मेकर्स ने फिल्म के टाइटल की घोषणा की है। इस बायोपिक में विक्की कौशल टाइटल रोल निभा रहे हैं। वहीं फिल्म का निर्देशन मेघना गुलज़ार करेंगी। सैम मानेकशॉ की बायोपिक का नाम 'सैम बहादुर' रखा गया है।

विक्की कौशल ने फिल्म का टीज़र अपने सोशल मीडिय प्लेटफॉर्म से जारी करते हुए इसके टाइटल की अनाउंसमेंट की।

सैम मानेकशॉ के रूप में विक्की की पहली तस्वीर साल 2019 में सामने आई थी, जिसमें सैम मानेकशॉ की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई थी। वहीं पिछले साल, निर्माताओं ने विक्की कौशल का दूसरा लुक जारी किया था, जिसमें विक्की का फील्ड मार्शल से हूबहू मिलते लुक सभी को हैरान कर दिया था। वहीं अब फिल्म के नाम सामने आ गया है।

टाइटल अनाउंसमेंट टीज़र शेयर करते हुए विक्की ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर लिखा, 'द मैन। द लीजेंड। द ब्रेव हार्ट। हमारा सैम बहादुर ... फील्ड मार्शल #SamManekshaw की जयंती पर, उनकी कहानी ने अपना नाम ढूंढ लिया है। #SamBahadur'

इस टीज़र के बैकग्राउंट में दिग्गज गीतकार, शायर फिल्म निर्माता और निर्देशक गुलज़ार की आवाज सुनाई दे रही है।

उल्लेखनीय है कि सैम मानेकशॉ के सैन्य करियर में चार दशक और पांच युद्ध हुए। वह पहले भारतीय सेना अधिकारी थे, जिन्हें फील्ड मार्शल के पद पर पदोन्नत किया गया था और साल 1971 के भारत-पाक युद्ध में उनकी सैन्य जीत के कारण बांग्लादेश का निर्माण हुआ।

फिल्म को लेकर विक्की कौशल ने कहा, 'मैंने पंजाब से तालुख रखने वाले मेरे माता-पिता से हमेशा सैम बहादुर के बारे में कहानियां सुनी हैं और वह साल 1971 का युद्ध देख चुके हैं, लेकिन जब मैंने स्क्रिप्ट पढ़ी, तो मेरे होश उड़ गए थे। वह एक नायक और देशभक्त है, जिन्हें आज भी याद किया जाता है और प्यार किया जाता है और फिल्म में उसकी भावना को कैप्चर करना मेरे लिए सबसे ज्यादा महत्व रखता है।'

वहीं फिल्म की निर्देशक मेघना गुलज़ार कहती हैं, 'वह एक सैनिक के सिपाही और एक सज्जन व्यक्ति थे। सैम बहादुर जैसे पुरुष अब ओर नहीं बनते हैं। मैं रोनी स्क्रूवाला और अविश्वसनीय रूप से प्रतिभाशाली विक्की कौशल के साथ उनकी कहानी पेश करने के लिए सम्मानित महसूस कर रहा हूं। फील्ड मार्शल की जयंती पर, उनकी कहानी को नाम मिला है। मैं बहुत ज्यादा खुश हूं।'

संबंधित ख़बरें

टिप्पणियां