सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

'पप्पी जी' से 'बाबू जी' ने कराई सनी लियोनी की शादी

सिनेमा के मशूहर संस्कारी 'बाबूजी', फिल्म 'तनु वेड्स मनु' के 'पप्पी जी' और सनी लियोनी को लेकर एक रोचक विज्ञापन बनाया गया है। इस दिलचस्प विज्ञापन में सनी लियोनी 'बाबू जी' बहू बनी हैं।  'बाबूजी' यानी आलोक नाथ अपने बेटे की आख‍िरी इच्छा  को पूरी करने के लिए यह सब करते हैं। दरअसल, आलोकनाथ, दीपक डोबरियाल और सनी लियोनी ने नो स्मोकिंग कैंपेन के लिए शॉर्ट फिल्म '11 मिनट्स' में साथ में  काम किया है। इस विज्ञापन से लोगों को सिगरेट छोड़ने का संदेश दिया जाएगा। 

शॉट फिल्म'11 मिनट्स' में दीपक  और सनी के साथ अन्य किरदार कुछ इसत रह दिखे
मुंबई। बॉलीवुड में संस्कारी 'बाबूजी' के नाम से मशहूर अभिनेता आलोक नाथ, फिल्म 'तनु वेड्स मनु' के 'पप्पी जी' यानी दीपक डोबरियाल और सनी लियोनी एक का एक वीडियो वायरल हो रहा है। '11 मिनट्स'  नाम की यह शॉर्ट फिल्म लाेगों में स्मोकिंग छोड़ने की अलख जगाने के लिए बनाया गया है।

मंगलवार को नो स्मोकिंग कैंपेन के लिए बने इस शॉर्ट फिल्म को लॉन्च किया गया। इस मौक़े पर दीपक के साथ सनी लियोनी और शॉर्ट फिल्म '11 मिनट्स' के निर्देशक विभु पुरी भी मौजूद थे। 

छलका सनी लियोनी का दर्द

अपनी बोल्ड इमेज के लिए मशहूर सनी से जब पत्रकारों ने पूछा कि वे नो स्मोकिंग कैंपेन से क्यों जुड़ी? तो इसका जवाब देते हुए सनी ने कहा कि यह यह विषय मेरे दिल के बेहद करीब है। मेरे पिता की मृत्यु कैंसर की वजह से हुई थी। मैंने उन्हें अस्पताल  में हर दिन दर्द सहते और मरते देखा है। मैं नहीं चाहती की कोई भी परिवार या बच्चा ऐसा दर्द सहे। यह दुनिया का सबसे बड़ा दर्द है। इसी कारण मैंने इस कैंपेन के लिए हामी भरी। मैं चाहती हूं कि सभी लोग स्मोकिंग छोड़ खुशहाली से जिंदगी जीएं। सनी लियोनी ने कहा कि धुम्रपान छोड़ने के बाद आयुर्वेदिक उपचार की मदद से यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि छोड़ने वाला व्यक्ति दोबारा धुम्रपान न करे।

दीपक ने छोड़ी सिगरेट 

बॉलीवुड अभिनेता दीपक डोबरियाल ने बताया कि वे चेन स्मोकर हुआ करते  थे, लेकिन इस कैंपेन से जुड़ने से पहले मैंने अपनी अादत सुधारी। मैंने खुद ने सिगरेट पीना छोड़ा। दीपक आगे कहते हैं कि उन्हें अहसास हुआ कि धुएं की गिरफ्त में आने से पहले उनकी इच्छा शक्ति बहुत दृढ़ थी। 'तनु वेड्स मनु रिटर्न्स' के अभिनेता ने कहा कि अपने सीनियर्स को देखकर स्मोकिंग करना सीखा। बकौल दीपक सिगरेट पीना तब उन्हें 'स्टाइलिश' लगता था।

संवाददाताअों से अपने अनुभव साझा करते हुए दीपक ने बताया कि जब मैं धुम्रपान नहीं करता था, तब मेरी इच्छा शक्ति बहुत दृढ़ थी। मैं पूरे मन से काम करता था। लेकिन  'स्टाइलिश'  लगने  के चक्कर  में इस आदत का शिकार हो गया। सिगरेट पीने से  'स्टाइलिश' नहीं लगते, बल्कि अपनी शर्मिन्दगी और ऐसे ही अन्य अहसासों को छिपाने के लिए आप सिगरेट की मदद लेते हैं।

क्या है वीडियो में

इस वीडियो में हरियाणा मूल के एक बाबूजी को डॉक्टर बताता है कि उनके 'घर का दीपक' कभी भी बुझ सकता है, इसलिए अब उससे उसकी अंतिम इच्छा पूछने का वक्त आ गया है। ख़बर सुनते ही पूरा घर दुखी हो जाता है, लेकिन अगले ही पल सभी लोग 'घर के दीपक' को आखिरी बार कई तरह की चीजें लेने को कहते हैं। कोई आकर कहता है,  'दीपू ले खा ले रंगूनी पान, आखिरी बार...', तो कोई आकर कहता है,  'चौटाले की बकरी का दूध पीएगा? जाते-जाते पी ले थोड़ा सा...' ,  एक महिला फुसलाने की कोशिश में उसे खिलौना देते हुए  कहती है, 'म्हारे पीहर से दहेज में आई ये रूसी गुड्डी...', एक आदमी माउथ आॅर्गन देते हुए कहता है,  'भाई थारी फेवरिट बिलायती तूतणीं... ले भर दे इसमें अपनी सांसा ने आखिरी सुर...', लेकिन राजस्थानी छोरे दीपू को ये सब नहीं चाहिए। 

तभी दीपू अपना आईपैड निकालता है और बाबूजी को अपनी आखिरी इच्छा दिखा देता है। बाबू जी थोड़ी सी ना-नुकुर के बाद मान जाते हैं और आखिरकार दीपू की अंतिम इच्छा पूरी की जाती है। अब नई नवेली दुल्हन के रूप में सनी लियोनी की एंट्री होती है। सिगरेट की लत के कारण मरने की कगार पर पहुंचे दीपू की अंतिम इच्छा पूरी होने ही वाली होती है कि... 'घर का दीपक' बुझ जाता है...!!! 

इस वीडियो को देखने के लिए यहां क्लिक करें। 

संबंधित ख़बरें
आगे अक्षय के 'रुस्तम' का फर्स्ट लुक जारी