सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रियंका चोपड़ा दिखाएंगी रबीन्द्रनाथ टैगोर की प्रेम-कहानी

अपनी पहली हॉलीवुड फिल्म के प्रमोशन में जुटी प्रियंका चोपड़ा बतौर निर्माता भी कामयाबी के झंडे गाड़ रही हैं। ख़बर है कि जल्दी ही प्रियंका नोबेल पुरस्कार विजेता महान लेखक और कवि रबीन्द्रनाथ टैगोर की प्रेम कहानी पर फिल्म बनाने जा रही हैं। इस फिल्म के निर्देशन का जिम्मा राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता उज्जवल चटर्जी करेंगे। 

प्रियंका चोपड़ा, रबीन्द्रनाथ टैगोर की प्रेम कहानी बनाने जा रही हैं
मुंबई। अभिनेत्री प्रियंको चोपड़ा कवि और लेखक रबींद्रनाथ टैगोर के जीवन का वो हिस्सा दिखाने जा रही हैं, जिससे अमूमन सब अनभिज्ञ हैं। उनकी कहानीयों और कविताओं की तो सभी बात करते हैं, लेकिन प्रियंका चोपड़ा पर्दे पर रबीन्द्रनाथ टैगोर की प्रेम कहानी उकेरेंगी। 

फिलहाल इस फिल्म की कहानी तो तैयार कर ली गई है, जिसे सागिरका चैटर्जी ने लिखी है, लेकिन अभी स्क्रिप्टिंग पर काम चल रहा है। ख़बरियों का कहना है कि टैगोर पर बनाई जाने वाली प्रेम कहानी एक बायोपिक जरूर होगी, लेकिन इसे रबींद्रनाथ टैगोर की जीवनी के तौर पर नहीं दिखाया जाएगा। उनके जीवन का शुरुआती दौर की फिल्म में दिखाया जाएगा। 

फिल्म की कहानी 

साल 1878 में जब टैगोर की उम्र 17 साल की रही होगी, तब वो मुंबई में अपने गुरु डॉक्टर आत्मा राम पांडूरंग तुरखुद के घर पर रहते थे और उसी दौरान उन्हें आत्मा राम की बेटी अन्नपूर्णा से प्रेम हो गया। 

अन्नपूर्णा इंग्लैंड से पढ़कर लौटी थी। उसको अंग्रेज़ी का काफी अच्छा ज्ञान था। इसलिए टैगोर अन्नपूर्णा से अंग्रेज़ी सीखने लगे। इसी दौरान दोनों की नज़दीकियां बढ़ीं और प्रेम हो गया। टैगौर ने अन्नपूर्णा को ‘नलिनी’ नाम दिया। 

टैगोर इस हद तक अन्नपूर्णा को प्रेम करते थे कि उन्होंने उनपर कविताएं तक लिखी, जिसे बाद में गीत में तब्दील किया गया। इन गीतों को संगीत भी टैगौर ने ही दिया था। 

इस प्रेम कहानी की उम्र लंबी नहीं रही। दो साल के प्रेम के बाद अन्नपूर्णा की शादी किसी और से कर दी गई, क्योंकि अन्नपूर्णा के पिता को टैगोर पसंदा नहीं थे। 

टैगोर के इस पहलू से अनजान लोगों के लिए यह जानना काफी दिलचस्प होगा कि उनको भी प्रेम हुआ और बिछोह हुआ। 

ख़ैर, प्रियंका इन दिनों न सिर्फ अभिनय में अपने झंडे गाड़ रही हैं, बल्कि वो बतौर निर्माता भी लोगों को प्रभावित कर रही हैं। उनकी अब तक भोजपुरी में 'बम बम बोल रहा है काशी', मराठी में 'वेंटिलेटर' , पंजाबी में 'सरवन', सिक्किम फिल्म 'पहुना' और गोवन में 'लिटिल जो' फिल्में आ चुकी हैं और इनकी चर्चा भी काफी रही। अब देखना अब ये बंगाली प्रेम कहानी बॉक्स ऑफिस पर क्या कमाल करती है और आलोचकों का प्रियंका के प्रति क्या रवैया रहता है।

संबंधित ख़बरें