सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फिर 'डॉक्टर' बने किंग ख़ान

शाहरुख़ ख़ान को ब्रिटेन के एडिनबर्ग विश्वविद्यालय ने डॉक्टर की मानद उपाधि से नवाजा है। किंग ख़ान के लिए यह दूसरा मौक़ा था, जब उन्हें डॉक्टरेट की उपाधि से नवाज़ा गया। इस बात की जानकारी अभिनेता ने अपने ट्विटर हैंडल से दी ...

डॉक्टरेट की मानद उपाधि लेते हुए शाहरुख ख़ान।
मुंबई। अभिनेता शाहरुख़ ख़ान (शाहरुख खान, शाहरुख खान) को एडिनबर्ग के छात्रों को एक व्याख्यान देने के लिए आमंत्रित किया गया था। उन्होंने जीवन के मूल्य उसकी शिक्षा पर व्याख्यान दिया। 'लाइफ़ इज़ मिरेकल' को केंद्र में रहकर उन्होंने कई बातें छात्रों से साझा की।

छात्रों को व्याख्यान देते हुए शाहरुख़।

इसके बाद विश्वविद्यालय ने उन्हें डॉक्टरेट की मानद उपाधि से नवाज़ा। हालांकि, इससे पहले शाहरुख़ को ब्रिटेन के ही बेडफोर्डशायर विश्वविद्यालय से कला और संस्कृति के लिए डॉक्टरेट की मानद उपाधि भी प्राप्त है।

डॉक्टरेट की मानद उपाधि के सर्टिफिकेट के साथ तस्वीर शाहरुख ने अपने ट्विटर पर साझा की्।

इस उपाधि के लिए किंग खान ने सबको शुक्रिया करते हुए ट्वीट किया है, "इस सम्मान के लिए क्वीन एलिजाबैथ और प्रो। जेफ़री के साथ अन्य सभी साथियो को इस मानद उपाधि के लिए धन्यवाद।"

शाहरुख़ के बाद एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल ने भी आयोजन की तस्वीरें साझा किया है।
तारीफ़ों के पुल

शाहरुख की तारीफ़ों के पुल बांधते हुए विवि ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर किंग खान के बारे में काफी कुछ लिखा है।

आयोजन की जानकारी देते हुए लिखा, "विश्वविद्याल ने 15 अक्टूबर, गुरुवार को बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख़ खान की मेज़ाबानी करेगा। बॉलीवुड के मशहूर अभिनेताओं में से एक शाहरुख विवि के नए खुले कॉलेज में एक सार्वजनिक व्याख्यान देंगे।"

'डॉक्टर' बने शाहरुख़ कुछ इस अंदाज़ में नज़र आए ।

शाहरुख़ के बारे में बताते हुए लिखा है कि अभिनेता पिछले पच्चीस सालों से हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने अब तक 80 फ़िल्मों में अपनी अदाकारी के जलवे दिखाए हैं। 

न सिर्फ़ बड़े परदे पर बल्कि छोटे परदे पर भी ये सक्रिय रहते हैं। इन्हें 'कुछ कुछ होता है', 'दिलवाले दुल्हानिया ले जाएंगे', 'चक दे ​​इंडिया' और 'स्वदेश' जैसी फ़िल्मों के लिए जाना जाता है। शाहरुख़ को भारत के सर्वोच्च सम्मानों में से एक पद्म श्री से भी वर्ष 2005 में नवाज़ा जा चुका है।

एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के वाइस प्रिंसीपल चार्ली जेफ़री के हवाले से लिखा है कि हमारा भारत से गहरा नाता है। हम वर्ल्ड सिनेमा के एक सितारे का स्वागत करके खुद को गौरांवित महसूस कर रहे हैं।

संबंधित खबरें।
आगे 'तमाशा' का म्यूजिक एल्बम हुआ लॉन्च