सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डिप्रेसिंग स्टोरी लाइन के चलते छोड़ी थी ‘खामोशी’

अभिनेत्री माधुरी दीक्षित ने ‘दामिनी’, ‘1942 ए लव स्टोरी’, ‘खामोशी’ और ‘हम दिल दे चुके सनम’ सरीखी फिल्मों को करने से इंकार किया। कुछ को डेट्स प्रॉब्लम के चलते, तो कुछ की स्टोरी लाइन उनको डिप्रेसिंग लगी। पढ़िए पूरी कहानी...

माधुरी दीक्षित ने इन फिल्मों को करने से किया इंकार

मुंबई। माधुरी दीक्षित एक समय में सबसे ज्यादा मेहनताना वसूलने वाली अदाकारा रह चुकी हैं। आलम तो यह है कि फिल्म ‘हम आपके है कौन’ के लिए उनको अभिनेता सलमान खान से भी ज्यादा मेहनताना दिया गया था। निर्माता-निर्देशकों का लंबी कतार लगा करती थीं। कई फिल्मों को हां, तो कई को मजबूरी में ना करना पड़ता था। ऐसी ही कुछ फिल्में, जिनकों माधुरी ने मना किया और वो बड़ी हिट साबित हुईं। 

दामिनी

इन फिल्मों में सबसे पहले बात करते हैं फिल्म ‘दामिनी’ की। मीनाक्षी शेषाद्री की छोड़ी फिल्म से फिल्म इंडस्ट्री में अपनी धाक जमाने वाली अभिनेत्री माधुरी को फिल्म ‘दामिनी’ का प्रस्ताव मिला था, लेकिन डेट्स की समस्या के चलते माधुरी ने इस फिल्म को करने से इंकार कर दिया। 

राजकुमार संतोषी के निर्देशन में बनी इस फिल्म के लिए फिर मीनाक्षी शेषाद्री को कास्ट किया गया। मीनाक्षी ने ‘दामिनी’ के किरदार को निभा कर खुद को सशक्त अभिनेत्री साबित किया। इस फिल्म ने राष्ट्रीय पुरस्कारों में अच्छी खासी दखल दिखाई। बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का राष्ट्रीय पुरस्कार सनी देओल को मिला, जबकि बेस्ट डायरेक्टर का फिल्मफेयर अवॉर्ड राजकुमार संतोषी को प्राप्त हुआ। 

1942 ए लव स्टोरी

निर्माता-निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा की फिल्म ‘1942 ए लव स्टोरी’ उनकी सफलतम फिल्मों में से एक है। इसकी स्टोरी लाइन के साथ इसका संगीत आज भी दर्शकों को लुभाता है। इस फिल्म का प्रस्ताव लेकर विधु विनोद चोपड़ा, माधुरी दीक्षित के पास गए। 

दरअसल, माधुरी को विधु विनोद ने फिल्म ‘परिंदा’ में निर्देशित किया था। लिहाजा, वो चाहते थे कि उनकी फिल्म में माधुरी की हों। लेकिन माधुरी ने फिल्म करने से इंकार कर दिया। माधुरी ने कहा कि उनके पास डेट्स की समस्या है, तो वो यह फिल्म नहीं कर पाएंगी। 

निराश विधु विनोद चोपड़ा ने फिल्म में माधुरी का किरदार मनीषा कोइराला को दे दिया। हालांकि, बाद में माधुरी ने विधु विनोद चोपड़ा से कहा भी कि वो फिल्म ‘1942 ए लव स्टोरी’ करना चाहती हैं, लेकिन तब विधु ने मना कर दिया। 

‘1942 ए लव स्टोरी’ ने सफलता के नए कीर्तिमान रचे। फिल्म ने 9 फिल्मफेयर पुरस्कार अपने नाम किए। इसका संगीत आज भी लोगों के ज़ेहन में ताज़ा है। 

खामोशी

साल 1996 में आई फिल्म ‘खामोशी’ को संजय लीला भंसाली माधुरी दीक्षित के साथ बनाना चाहते थे। माधुरी के पास इसका प्रस्ताव लेकर गए भी, लेकिन माधुरी ने फिल्म करने से इंकार कर दिया। माधुरी ने कहा कि फिल्म की स्टोरी लाइन काफी डिप्रेसिंग है। इस वजह से मैं फिल्म नहीं कर सकती। 

बाद में इस फिल्म में मनीषा कोइराला को सलमान खान के अपोज़िंट कास्ट किया गया। फिल्म को सराहा तो गया, लेकिन बॉक्स ऑफिस पर यह डिजास्टर साबित हुई। 

फिर साल 1999 में रिलीज़ हुई फिल्म ‘हम दिल दे चुके सनम’ का ऑफर लेकर संजय लीला भंसाली, माधुरी के पास पहुंचे, लेकिन इस बार भी बात नहीं बनी। शायद माधुरी शादी करके सैटल होने पर ज्यादा फोकस कर रही थीं। ग़ौरतलब है कि साल 1999 में ही माधुरी ने डॉक्टर श्रीराम नेने से शादी किया था। 

ख़ैर, संजय लीला भंसाली ने ऐश्वर्या राय को अपनी फिल्म ‘हम दिल दे चुके सनम’ की ‘नंदिनी’ बनाया। फिल्म बनी और सफल भी रही। इसी फिल्म से सलमान और ऐश्वर्या के अफेयर की ख़बरें भी उड़ीं। 

हालांकि, संजय लीला भंसाली अपनी फिल्म में माधुरी को लाने में कामयाब रहे। साल 2002 में आई फिल्म ‘देवदास’ में माधुरी ने ‘चंद्रमुखी’ का किरदार निभाया। 

इश्क़

आमिर खान, अजय देवगन, जूही चावला और काजोल अभिनीत फिल्म ‘इश्क़’ को भी माधुरी ने करने से इंकार किया था। निर्देशक इंद्र कुमार चाहते थे कि फिल्म ‘इश्क’ में माधुरी काम करें, क्योंकि दोनों ने साथ में ‘दिल’, ‘बेटा’ और ‘राजा’ सरीखी हिट फिल्में दी हैं। लेकिन माधुरी की डेट्स पहले ही दूसरी फिल्मों को दे दी गई थीं। ऐसे में ‘इश्क’ में माधुरी की जगह जूही चावला को कास्ट किया गया। 

यह फिल्म भी बहुत बड़ी बॉक्स ऑफिस हिट साबित हुई। इसके गाने और कॉमेडी आज भी लोगों को पसंद है।

संबंधित ख़बरें